close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

cardiovascular disease

Shocking : दिन के इस एक घंटे में होती हैं सबसे ज्यादा मौतें, रिसर्च में हुआ दावा

एक स्टडी का मानना है कि दुनिया में ज्यादातर लोग तीसरे पहर मतलब सुबह के तीन से चार बजे के टाइम में ज्यादा मौतें रिकॉर्ड हुई हैं.

Nov 16, 2018, 06:03 PM IST

हृदय रोग के जोखिमों की ऐसे करें पहचान वरना भविष्य में हो सकती है मुश्किल

भारत में दिन प्रतिदिन हृदय रोगियों की संख्या बढ़ती जा रही है. खराब जीवन शैली के चलते ये समस्या आजकल युवाओं में भी देखने को मिल रही है.

Sep 29, 2017, 08:02 AM IST

हृदय रोग के खतरे को कम करने के लिए टिप्स!

कार्डियोवस्कुलर डिज़ीज जिसे हृदय रोग भी कहा जाता है सूत्रों के मुताबिक विकसित देशों में प्रति वर्ष 17 लाख से अधिक लोगों की मौत का प्रमुख कारण है, और ये कैंसर की तुलना में अधिक जानें लेता है। यह मुख्य रूप से खराब आहार, व्यायाम की कमी, मोटापा, और धूम्रपान के कारण होता है।

Jan 20, 2017, 03:28 PM IST

कहीं आप उच्च कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित तो नहीं हैं? करें ये उपाय

कोलेस्ट्रॉल का नाम सुनते ही किसी भी सामान्य आदमी की हृदय गति बढ़ जाती है, पर इससे घबराना नहीं चाहिए। कोलेस्ट्रॉल बुरा ही नहीं अच्छा भी होता है। दरअसल कोलेस्ट्रॉल मुलायम चिपचिपा पदार्थ होता है जो रक्त शिराओं व कोशिकाओं में पाया जाता है। शरीर में कोलेस्ट्रॉल की उपस्थिति एक सामान्य बात है। यह शरीर का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। 80 प्रतिशत कोलेस्ट्रॉल का निर्माण हमारे शरीर में लीवर के द्वारा किया जाता है और बाकी 20 प्रतिशत जो भोजन हम लेते हैं, उससे प्राप्त हो जाता है। कोलेस्ट्रॉल एक वसा है जो सीमित मात्रा में जिन्दगी और सेहत के लिए जरूरी है। डायबटीज और किडनी के रोगों से पीड़ित लोगों के लिए उच्च रक्त कोलेस्ट्रॉल बहुत घातक सिद्ध हो सकता है।

Nov 13, 2016, 05:42 PM IST

भारत में हृदय रोग मृत्यु का सबसे बडा कारण

सरकार ने मंगलवार को बताया कि देश में हृदय और फेफडों की बीमारियों से सबसे अधिक लोगों की मौतें होती हैं। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जे पी नड्डा ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में राज्यसभा को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार भारत में मृत्यु के शीर्ष 10 कारण इस्केमिक हृदय रोग (12.4 प्रतिशत), पुराने अवरोधातमक यकृत रोग (10.8 प्रतिशत), आघात (नौ प्रतिशत), आंत्रशोध संबंधी रोग (छह प्रतिशत), निम्नतर श्वसन मार्ग संक्रमण (4.9 प्रतिशत) समय पूर्व प्रसव जटिलताएं (3.9 प्रतिशत), क्षय रोग (2.7 प्रतिशत), स्वयं को हानि पहुंचाना (2.6 प्रतिशत), गिरना (2.6 प्रतिशत) और सडक दुर्घटना (2.4 प्रतिशत) हैं।

Mar 1, 2016, 07:51 PM IST

अधिकांश महिलाओं को नहीं होती जिंदगी के इस सबसे बड़े खतरे की जानकारी

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के वैज्ञानिक सत्र 2015 में पेश की गई एक रिपोर्ट के मुताबिक अधिकांश महिलाएं यह कहती है कि निजी तौर पर उनका हृदय संबंधी बीमारियों से कोई संबंध नहीं है।

Nov 9, 2015, 01:44 PM IST

वर्ल्ड स्ट्रोक डे: इन टिप्स को अपनाकर कम करें 'स्ट्रोक' का रिस्क

स्ट्रोक (पक्षाघात) को 'ब्रेन स्ट्रोक' के तौर पर भी जाना जाता है। जब अचानक ब्रेन के किसी हिस्से मे ब्लड का फ्लो रुक जाती है या दीमाग की कोई रक्त वाहिका फट जाती है तो 'ब्रेन स्ट्रोक' का खतरा बढ़ जाता है। स्ट्रोक आने पर व्यक्कि के शरीर के एक हिस्से को लकवा मार जाता है।

Oct 30, 2015, 01:19 PM IST

हॉर्ट डिजीज: चेतावनी भरे संकेतों की न करें अनदेखी

जीवनशैली और खानपान की आदतों में बदलाव की वजह से शहरी भारत में 60 फीसदी से अधिक महिलाओं को दिल की बीमारियों का खतरा होता है। यह खुलासा हाल में एक अध्ययन में किया गया है। भारत के दस बड़े शहरों में कराए गए अध्ययन में 30 से 45 साल की आयुवर्ग की करीब 1300 शहरी भारतीय महिलाओं में दिल की बीमारियों के जोखिम की वजहों का विश्लेषण किया गया। विश्व हृदय दिवस से एक दिन पहले जारी अध्ययन के निष्कर्ष कहते हैं कि ऐसी 61 फीसदी महिलाओं को हृदय संबंधी रोगों का जोखिम होता है। गौर हो कि 29 सितंबर (मंगलवार) को वर्ल्ड हार्ट डे मनाया जा रहा है। जीवन शैली में बदलाव और तनाव मुक्त जीवन शैली अपना कर आप हृदय रोग से अपना बचाव कर सकते हैं। जिस वक्त भी मौका मिले सप्ताह में कम से कम 5 दिन पैदल चलना हृदय के लिए फायदेमंद है।

Sep 29, 2015, 12:54 PM IST

हृदय रोग के खतरे को कम करने में योग, एरोबिक्स की तरह कारगर

हृदय रोग के खतरे को कम करने में योग उतना ही कारगर है जितना कि एरोबिक्स अभ्यास और घूमना। योग एक पुरातन मानसिक शारीरिक व्यायाम है जिसकी उत्पत्ति भारत में हुई थी।

Dec 17, 2014, 12:03 AM IST