close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

SAMSUNG ने 70 दिनों में 50 लाख A-सीरीज स्मार्टफोन बेचे, कुल कीमत 7000 करोड़ रुपये

सैमसंग इंडिया के वरिष्ठ उपाध्यक्ष और मुख्य विपणन अधिकारी रंजीवजीत सिंह ने कहा, "अब हमारे पास ए-सीरीज में छह मॉडल हैं और देश भर से शानदार प्रतिक्रिया मिल रही है."

SAMSUNG ने 70 दिनों में 50 लाख A-सीरीज स्मार्टफोन बेचे, कुल कीमत 7000 करोड़ रुपये
Samsung Galaxy A70. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: सैमसंग 70 दिनों के भीतर एक अरब डॉलर (लगभग 7,000 करोड़ रुपये) मूल्य के ए-सीरीज स्मार्टफोन की बिक्री कर चुकी है. उसका भारत में साल के अंत तक चार अरब डॉलर की बिक्री हासिल करने का लक्ष्य है. कंपनी ने मंगलवार को यह जानकारी दी. फरवरी में, दक्षिण कोरिया की इस प्रमुख प्रौद्योगिकी कंपनी ने कहा था कि उसकी इस साल भारत में अपने गैलेक्सी ए-सीरीज स्मार्टफोन श्रेणी से चार अरब डॉलर (लगभग 28,000 करोड़ रुपये) के राजस्व को हासिल करने की योजना है.

सैमसंग इंडिया के वरिष्ठ उपाध्यक्ष और मुख्य विपणन अधिकारी रंजीवजीत सिंह ने कहा, "अब हमारे पास ए-सीरीज में छह मॉडल हैं और देश भर से शानदार प्रतिक्रिया मिल रही है. हमारे एंट्री स्तर की पेशकश ‘ए 2 कोर’ की भारी मात्रा में बिक्री हो रही है. 70 दिनों में हमने ए-सीरीज के 50 लाख फोन बेचे हैं और हम चार अरब डॉलर के लक्ष्य हासिल करने की ओर अग्रसर हैं.

ट्रिपल रियर कैमरे वाला Samsung Galaxy A70 हुआ लॉन्च, जानें कीमत और अन्य फीचर्स

उन्होंने कहा कि कंपनी ने निर्धारित समयावधि में ए-सीरीज से एक अरब डॉलर की बिक्री का लक्ष्य हासिल किया है. बेहद प्रतिस्पर्धी भारतीय स्मार्टफोन बाजार में सैमसंग नेतृत्व के लिए चीनी कंपनी शियोमी से प्रतिस्पर्धा कर रही है. कंपनी ने कहा है कि वह ए-सीरीज के तहत हर महीने एक नया मॉडल बाजार में पेश करेगी. कंपनी आने वाले हफ्तों में अपने गैलेक्सी ए-80 को भारतीय बाजार में पेश करेगी और यह फोन प्रीमियम श्रेणी में प्रतिस्पर्धा करेगा.

टूट रही है Samsung Galaxy Fold की स्क्रीन, खरीदने से पहले जानें एक्सपर्ट की राय

काउंटरपॉइंट रिसर्च के अनुसार, जनवरी-मार्च 2019 तिमाही में भारत के प्रीमियम स्मार्टफोन (30,000 रुपये और उससे अधिक कीमत वाले) के बाजार में सैमसंग की 44 प्रतिशत हिस्सेदारी थी. इस तिमाही में वनप्लस की 26 फीसदी बाजार हिस्सेदारी थी, जबकि एपल की उक्त तिमाही में 19 फीसदी हिस्सेदारी थी. अन्य कंपनियों के प्रीमियम खंड के शेष 11 प्रतिशत हिस्सा था.