Travel Trend: कोरोना वायरस के बाद यात्रियों के बीच बढ़ गया Home Stay का ट्रेंड

कोरोना वायरस के पहले और बाद की दुनिया में काफी बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा. ट्रैवल (travel) की बात करें तो लोगों के घूमने के तौर-तरीकों में भी काफी बदलाव आने वाला है.

Travel Trend: कोरोना वायरस के बाद यात्रियों के बीच बढ़ गया Home Stay का ट्रेंड
भारत में होम स्टे का बढ़ता ट्रेंड

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के पहले और बाद की दुनिया में काफी बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा. ट्रैवल (travel) की बात करें तो लोगों के घूमने के तौर-तरीकों में भी काफी बदलाव आने वाला है. अब लोग होटल में स्टे करने से थोड़ा कतराने लगे हैं. ऐसे में होम स्टे (home stay) का ट्रेंड भी बढ़ने लगा है. वैसे भी पर्यटन को अब नए सिरे से परिभाषित करने की जरूरत है. जब भी कहीं घूमने जाएं तो वहां के स्थानीय लोगों के साथ समय व्यतीत कर उनकी संस्कृति को भी जरूर समझें. किसी दूसरे शहर या राज्य में घूमने का प्लैन बन रहा हो तो वहां ठहरने की चिंता होना स्वाभाविक है. कभी होटल में खाली कमरे नहीं मिलते हैं तो कभी वे बजट से बाहर होते हैं. भारतीय मान्यता 'अतिथि देवो भव:' को चरितार्थ करते हुए अब देश में होम स्टे का कल्चर बढ़ता जा रहा है.

क्या है होम स्टे
होम स्टे का मतलब है, अपने घर से दूर किसी ऐसी जगह ठहरना, जहां घर जैसी अनुभूति हो. पर्यटन स्थलों में रहने वाले ऐसे बहुत लोग हैं, जो अपने घरों में या आस-पास क्वार्टर बनवाकर पर्यटकों को ठहरने की जगह उपलब्ध करवाते हैं. जो विदेशी भारतीय संस्कृति व जीवनशैली को देखने-समझने आते हैं, उनके लिए तो होम स्टे किसी वरदान सरीखा है.

जानें इसके फायदे
अगर आप किसी राज्य विशेष की संस्कृति, भाषा, वेश-भूषा, खान-पान आदि को समझना चाहते हैं तो होटल या रिजॉर्ट में रुकने के बजाय इन घरों की आवभगत स्वीकारें. यहां आपको न सिर्फ बढ़िया खाना-पीना मिलेगा, बल्कि अपनी ट्रिप को भी यादगार बना सकेंगे. सबसे खास बात है कि बजट के हिसाब से ही यहां भी पर्यटकों को होटल वाली सभी सुख-सुविधाएं दी जाती हैं. कुछ होम स्टे ऐसे भी हैं, जहां मकान मालिक या मैनेजर तो नहीं होते हैं पर वहां रहने वालों को एक रसोइया उपलब्ध करवा दिया जाता है.

यहां घूमें जरूर
भारत में होम स्टे के लिए ये जगहें बहुत मशहूर हैं.
1. गोवा - पुर्तगाली इंटीरियर में निर्मित विला में रहकर गोवा की असली संस्कृति को बेहतर तरीके से समझा जा सकता है. गोवा के पारंपरिक खान-पान और संगीत के साथ आपकी ट्रिप यादगार बन जाएगी.
2. केरल - बेहद खूबसूरत व रिलैक्सिंग जगहों में से एक केरल को पर्यटकों की पहली पसंद माना जाता है. यहां कई होम स्टे हैं, जहां स्थानीय खान-पान के अलावा आयुर्वेदिक थेरेपी भी दी जाती है. इनमें से कई के मालिकों ने मसाज व फेशियल का प्रशिक्षण भी हासिल किया हुआ है.
3. असम - चाय बागानों के करीब वहां की संस्कृति को बयान करते बंगले में रहकर ही इस जगह के सौंदर्य की अनुभूति की जा सकती है. होटल की तुलना में ये होम स्टे बागान के ज्यादा पास स्थित होते हैं.
4. मेघालय - सुहावने मौसम व भारी बारिश का मजा लेना हो तो यहां जरूर जाएं. यहां के घने रेन फॉरेस्ट और एग्जॉटिक रेसिपी का आनंद उठाने के लिए स्थानीय होम स्टे में ठहरना उचित रहेगा.
5. लद्दाख - लद्दाख की जीवनशैली को समझने के लिए वहां के होम स्टे में कुछ दिन गुजारना तो बनता है. तभी तो वहां के स्थानीय लोगों से उस जगह के इतिहास को जाना-समझा जा सकेगा.
6. कश्मीर - कश्मीर की खूबसूरत वादियों की तरह वहां की जीवनशैली भी लोगों का दिल जीत लेती है, जिसमें वेशभूषा और खान-पान शामिल है. इसका एहसास प्रोफेशनल होटल के बजाय स्थानीय लोगों के बीच रहकर बेहतर किया जा सकता है.
7. लोनावला - महाराष्ट का मशहूर पहाड़ी इलाका पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है. भीड़ अधिक होने की वजह से होम स्टे में पहले से बुकिंग करवा लेना ठीक रहता है.
8. कर्नाटक - कॉफी प्लांटेशंस और प्रकृति के सामीप्य के लिए नदी के किनारे स्थित इन होम स्टे से बेहतर कोई विकल्प नहीं मिलेगा.
9. हिमाचल प्रदेश - पहाड़ों में भ्रमण की बात हो तो हिमाचल के जिक्र के बिना पर्यटन अधूरा है. निजी बरामदे और फायरप्लेस के साथ यहां के होम स्टे रहने वालों के लिए सुविधाजनक माहौल उपलब्ध करवाते हैं.
10. स्पीति - अगर बौद्ध धर्म व उनके अनुयायियों को जानना-समझना चाहते हैं तो उनके साथ रहकर करीब से उन्हें महसूस करें.
भारतीय नक्शे पर विभिन्न राज्य, उनकी राजधानियां व शहर तो आसानी से नजर आ जाएंगे पर देश की विविधता व संस्कृति को समझना चाहते हैं तो उन जगहों के स्थानीय लोगों के साथ रहिए. यकीन मानिए, ये कुछ दिन आपकी जिंदगी की किताब के सबसे सुनहरे व जानकारीपूर्ण पन्ने बन जाएंगे.

पर्यटन संबंधी अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें