क्या छुपा रहा है चीन? कोरोना वायरस के बारे में सबसे पहले जानकारी देने वाली डॉक्टर महीनों से लापता, इंटरव्यू भी डिलीट

 डॉक्टर ऐ फेन वुहान के केंद्रीय अस्पताल के आपातकालीन विभाग की निदेशक हैं जहां कोरोनो का पहला मामला सामने आया था. 

क्या छुपा रहा है चीन? कोरोना वायरस के बारे में सबसे पहले जानकारी देने वाली डॉक्टर महीनों से लापता, इंटरव्यू भी डिलीट
प्रतीकात्मक तस्वीर

बीजिंग: कोरोना वायरस (Coronavirus) दुनिया के लिए अभिशाप बन गया है. इससे विश्वभर में करीब 60 हजार लोगों की मौत हो चुकी है. लेकिन इस महामारी को जन्म देने वाला चीन अभी भी इसकी सच्चाई दुनिया के सामने लाने से कतरा रहा है. अब खबर आ रही है कि कोरोना वायरस के बारे में सबसे पहले जानकारी देने वाली चीनी डॉक्टर एई फेन (Ai Fen) गायब हैं. डॉक्टर ऐ फेन वुहान के केंद्रीय अस्पताल के आपातकालीन विभाग की निदेशक हैं जहां कोरोनो का पहला मामला सामने आया था. 

राज्य द्वारा संचालित एक मैगजीन को इंटरव्यू देने के बाद से वह लापता हैं. वह इंटरव्यू भी डिलीट हो चुका है. इंटरव्यू में उन्होंने विस्तार से बताया था कि कैसे चीनी अधिकारियों ने घातक कोरोना वायरस के बारे में जानकारी छुपाने की कोशिश की थी. ये महामारी अब 180 देशों में फैल चुकी है. 

ये भी पढ़ें: दुनिया में फिर बजा भारत का डंका, इस देसी कंपनी ने तैयार कर लिया Coronavirus का टीका

बताया जा रहा है कि कोरोना वायरस को लेकर चीन दुनिया से काफी कुछ छुपा रहा है और यह इंटरव्यू उसका सबूत है. डॉक्टर फेन ने अपने इंटरव्यू में विस्तार से बताया था कि चीन को दिसंबर 2019 में ही इस बीमारी के बारे में पता चल गया था लेकिन इसकी रोकथाम के लिए कुछ नहीं किया गया. 

ZEE का अंतरराष्ट्रीय चैनल WION फेन के दावों की पड़ताल कर रहा है. शुक्रवार को फेन का एक इंटरव्यू WION के हाथ लगा. यह ओरिजिनल इंटरव्यू का अंग्रेजी अनुवाद है. इसे एक चीनी वेबसाइट पर प्रकाशित किया गया है. 

इंटरव्यू के अनुसार, डॉ. एई फेन अपने अस्पताल में थीं, जब पहला कोरोना का मरीज आया. यह एक ऐसी बीमारी थी, जिसे पहले किसी अन्य डॉक्टर ने नहीं देखा था. 

ये भी पढ़ें: बहराइच: छिपकर रह रहे तबलीगी जमात के 9 लोगों सहित कुल 11 के खिलाफ पुलिस ने दर्ज की FIR

उन्होंने इंटरव्यू में कहा कि मरीज में फ्लू के लक्षण दिखाई दे रहे थे. लेकिन उस पर उपचार के सामान्य तरीके काम नहीं कर रहे थे.

उन्होंने मरीज के कुछ टेस्ट करवाए जिसमें पता चला कि उसे "सार्स कोरोनवायरस" था. इंटरव्यू में फेन ने कहा कि उन्होंने पुष्टि करने के लिए कई बार मरीज की रिपोर्ट पढ़ी लेकिन निष्कर्ष वही था, कोरोना वायरस. 

उन्होंने इंटरव्यू में बताया कि उन्होंने रिपोर्ट की फोटो ली और एक दोस्त को भेजा. इसके बाद वह रिपोर्ट पूरे चीन में फैल गई. इसके बाद चीनी अधिकारी पूरे मामले को दबाने में लग गए यहां तक कि फेन को पुलिस की तरफ से वॉर्निंग भी दी गई थी. वुहान के अस्पताल ने भी फेन के दावों की पड़ताल करने की बजाय इसे छुपाने में चीन का साथ दिया. अब किसी को नहीं पता कि डॉक्टर एई फेन कहां हैं. उनका ओरिजनल इंटरव्यू भी डिलीट हो चुका है. 

LIVE TV