आज भी शेखर कपूर को सताता है इस बात का डर, फिल्ममेकर के बचपन से जुड़ा है ये किस्सा

Shekhar Kapur Birthday: मशहूर फिल्ममेकर शेखर कपूर आज अपना जन्मदिन मना रहे हैं. आज के इस खास मौके पर आइए आपको शेखर कपूर के बचपन के कुछ अनकहे और अनसुने किस्से बताते हैं.

Written by - Manushri Bajpai | Last Updated : Dec 6, 2022, 10:03 AM IST
  • 77 साल के हुए शेखर कपूर
  • कई बेहतरीन फिल्मों का कर चुके हैं निर्माण
आज भी शेखर कपूर को सताता है इस बात का डर, फिल्ममेकर के बचपन से जुड़ा है ये किस्सा

नई दिल्ली: Shekhar Kapur Birthday: शेखर कपूर हिंदी फिल्मों से जुड़ा एक बड़ा नाम है, जिसकी पहचान विश्व सिनेमा में भी है. जहां भारत में उन्हें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया है, वहीं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर वो बाफ्टा अवॉर्ड से सम्मानित हो चुके हैं. 80 के दशक में उन्हेंने फिल्म मासूम और मिस्टर इंडिया से धमाल मचा दिया था. शेखर कपूर का जन्म लाहौर में हुआ था. बचपन में शेखर को गणित की क्लास से बहुत डर लगता था. इससे जुड़ी मजेदार किस्सा खुद उन्होंने शेयर किया था. आज भी वह डर उन्हें सताता है.

गणित से डरते थे शेखर

शेखर ने एक बार मीडिया के सामने इस किस्से का जिक्र किया था. उन्होंने बताया था- 'मुझे याद है कि मैं बचपन में गणित में कमजोर था. गणित की क्लास मुझे पसंद नहीं थी. क्लास मुझे बहुत बड़ी दिखती थी. फिर कुछ साल पहले जब मैं मॉर्डन स्कूल गया तो वो प्रिसिंपल सर के ऑफिस का 'कॉरीडोर' मुझे अब भी डराता है.

वहीं जब आप किसी चीज से डरते हों तो वो आपको और डराती है. मेरे साथ ऐसा गणित को लेकर होता था. गणित की क्लास में ब्लैकबोर्ड और चॉक को देखकर मुझे ऐसा लगता था कि वो मुझसे दूर भाग रहे हैं. 

देव आनंद के पीछे परेशान करती थीं लड़कियां

हिंदी सिनेमा के सुपरस्टार देव आनंद, शेखर कपूर के करीबी रिश्तेदार थे. ये वो दौर था जब लड़कियां देव आनंद की दीवानी थीं. शेखर ने खुलासा किया कि देव आनंद को लेकर लोग उनसे कैसी कैसी डिमांड करते थे. शेखर ने कहा कि उनकी वजह से लड़कियां मुझे भी बहुत तंग करती थीं.

मैं भी स्टाइल मारने में पीछे नहीं रहता था. मैंने भी बड़े बड़े बाल रख लिए थे. हालांकि मुझे ये बात अच्छी तरह समझ आती थी कि उन दिनों लड़कियां मेरे पास सिर्फ देव आनंद साहब से मिलने के लिए मंडराती थीं.

इंडिया गेट से तोड़कर खाए जामुन

शेखर कपूर ने एक मजेदार किस्सा शेयर करते हुए बताया था कि मैं निजामुद्दीन के रास्ते होता हुआ बाराखंभा रोड पर मॉर्डन स्कूल जाता था. रास्ते में इंडिया गेट पड़ता था. इंडिया गेट के लॉन में उन दिनों शहतूत और जामुन के खूब सारे पेड़ थे. जिन्हें खाने के चक्कर में मैं हमेशा स्कूल पहुंचने में लेट हो जाता था. मैं बहुत बहाने बनाता था, लेकिन जैसे ही मुंह खोलता था पकड़ जाता था. बहुत बार मार खाने तक बात पहुंच जाती थी. उन्हें समझ आ जाता था कि देरी से क्लास में आने के पीछे माजरा क्या है.

ये भी पढ़ें- टू-पीस पहन पूजा बनर्जी ने दिखाया बोल्ड अवतार, इंटरनेट पर मचाई सनसनी

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़