Hyderabad में Amit Shah: रोहिंग्या पर टिप्पणी, मजलिस पर खूब बरसे गृहमंत्री

अमित शाह ने कहा कि ''टीआरएस और मजलिस के बीच गुप्त समझौता है लेकिन मुझे समझौते से दिक्कत नहीं है. मुझे दिक्कत है कि वे यह छिपकर क्यों करते हैं.''  शाह ने आगे कहा, ''कमरे में इलू-इलू करते हैं.

Hyderabad में Amit Shah: रोहिंग्या पर टिप्पणी, मजलिस पर खूब बरसे गृहमंत्री

हैदराबाद: हैदराबाद में रोड शो करने पहुंचे केंद्रीय गृहमंत्री रविवार को TRS और मजलिस पर जमकर बरसे. शाह हैदराबाद नगर निगम के चुनाव (GHMC) चुनाव प्रचार के आखिरी दिन रोड शो के लिए पहुंचे थे. इस दौरान केंद्रीय गृहमंत्री ने भाग्यलक्ष्मी मंदिर में जाकर पूजा अर्चना भी की. उन्होंने कहा कि हम निजाम संस्कृति से हैदराबाद को निजात दिलाना चाहते हैं.

बंद कमरे में इलू-इलूः शाह
जानकारी के मुताबिक, अमित शाह ने कहा कि ''टीआरएस और मजलिस के बीच गुप्त समझौता है लेकिन मुझे समझौते से दिक्कत नहीं है. मुझे दिक्कत है कि वे यह छिपकर क्यों करते हैं.''  शाह ने आगे कहा, ''कमरे में इलू-इलू करते हैं.

खुलेआम क्यों नहीं कह देते कि हां, मजलिस के साथ हमारा रिश्ता है. उन्होंने कहा कि सरदार पटेल के कारण हैदराबाद और आसपास के इलाके भारत के साथ जुड़े लेकिन जिन्होंने उस दौरान पाकिस्तान जाने की मुहिम चलाई थी ऐसी निजाम संस्कृति से हम हैदराबाद को निजात दिलाना चाहते हैं.''

जनता हिसाब मांगती है
गृहमंत्री ने यह भी कहा कि केसीआर और मजलिस ने 100 दिन की योजना का वादा किया था, हैदराबाद की जनता इसका हिसाब मांगती है. आपने जो भी कुछ पांच साल किया है उसका हिसाब सामने रखिए. सिटिजन चार्टर का वादा किया था, उसका क्या हुआ?''

शाह ने कहा, हम हैदराबाद को एक आधुनिक शहर बनाना चाहते हैं, जो निजाम की संस्कृति से मुक्त हो. अमित शाह ने हैदराबाद की जनता को भरोसा दिलाया कि भाजापा निकाय चुनाव में बहुमत हासिल करेगी और अगला मेयर हमारा ही होगा.''

रोहिंग्या को लेकर भी की टिप्पणी
इस दौरान AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी पर निशाना साधा. केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने ओवैसी को जवाब देते हुए रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर कहा कि ''जब कार्रवाई करते हैं तो ये लोग (विपक्षी दल) हाय तौबा करते हैं.

 

उन्होंने कहा कि विपक्षी दल एक बार लिखकर दें कि बांग्लादेशी और रोहिंग्या को निकाल दें, फिर मैं कुछ करता हूं.  इसके अलावा उन्होंने कहा कि हैदराबाद में आईटी हब बनने की क्षमता है. इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास नगर निगम द्वारा किया जाना है, भले ही धन राज्य और केंद्र द्वारा दिया गया हो. उन्होंने टीआरएस और कांग्रेस को हैदराबाद नगर निगम की सबसे बड़ी बाधा करार दिया. 

यह भी पढ़िएः Farmers Protest: किसानों ने अमित शाह की अपील को ठुकराया और दे दी ये 'धमकी'

देश और दुनिया की हर एक खबर अलग नजरिए के साथ और लाइव टीवी होगा आपकी मुट्ठी में. डाउनलोड करिए ज़ी हिंदुस्तान ऐप. जो आपको हर हलचल से खबरदार रखेगा...

नीचे के लिंक्स पर क्लिक करके डाउनलोड करें-
Android Link -