• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,69,789 और अबतक कुल केस- 7,67,296: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 4,76,378 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 21,129 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 61.53% से बेहतर होकर 62.08% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 19,547 मरीज ठीक हुए
  • कोविड-19 की राष्ट्रीय रिकवरी दर 62.08% पर पहुंची; सक्रिय मामलों की तुलना में ठीक होने वाले लगभग 2 लाख ज्यादा
  • देश में प्रयोगशालाओं की कुल संख्या 1,119 हुई. पिछले 24 घंटे में 2.6 लाख से ज्यादा नमूनों की जांच की गई
  • भारतीय नौसेना का ऑपरेशन समुद्र सेतु पूरा हुआ, इसके तहत 3,992 भारतीय नागरिकों को सफलतापूर्वक स्वदेश लाया गया
  • 30 जून तक 62,870 करोड़ रुपये की क्रेडिट सीमा के साथ 70.32 लाख किसान क्रेडिट कार्ड स्वीकृत किए गए हैं
  • उत्तर प्रदेश में वर्ष 2020-21 में 1.02 करोड़ घरों में नल कनेक्शन देने की योजना है
  • आपकी सुरक्षा आपके हाथों में है, बिना मास्क/फेस कवर पहने घर से बाहर न निकलें
  • कोविड-19 से संबंधित मदद, सलाह और उपायों के लिए 24x7 टोल-फ्री राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 1075 पर कॉल करें

कांग्रेस के प्रहार पर साध्वी की ललकार! कहा- 'आ रही हूं, फूंक देना'

भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को लेकर गहराया विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. कांग्रेस विधायक ने साध्वी को जिंदा जलाने की धमकी दी, तो प्रज्ञा ठाकुर ने उन्हें घर आने की चुनौती दे डाली.

कांग्रेस के प्रहार पर साध्वी की ललकार! कहा- 'आ रही हूं, फूंक देना'

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश के भोपाल से भारतीय जनता पार्टी की सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर पर मचा घमासान दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है. उनके एक बयान को लेकर अभी संग्राम छिड़ा ही था कि कांग्रेस पार्टी के एक विधायक ने उन्हें जलाने की धमकी दे डाली. फिर क्या था, खुद प्रज्ञा ठाकुर ने कांग्रेस को इतिहास की याद दिलाते हुए 1984 की एक दास्तां के पन्ने खोल दिए.

साध्वी प्रज्ञा ने दी खुली चुनौती

राजगढ़ के ब्यावर से कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी की एक धमकी के बाद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने उन्हें और राहुल गांधी को खुली चुनौती दी है. उन्होंने इतिहास के एक पन्ने को पलटते हुए साल 1984 के सिख विरोधी दंगी की याद दिलाई है. साध्वी ने ट्वीट करके ये लिखा है कि 'कांग्रेसियों को जिंदा जलाने का पुराना अनुभव है, 1984 मैं सिखों को और नैना साहनी को तंदूर में जलाने तक का. राहुल गांधी ने आतंकी कहा और उनके विधायक गोवर्धन दांगी मुझे जलाएंगे. ठीक है तो मैं आ रही हूं ब्यावरा उनके निवास मुल्तानपुरा पर दिनांक 8 दिसंबर 2019 समय सायं 4:00 बजे जला लीजिए.'

चुनौती के बाद डर गए MLA गोवर्धन?

दरअसल, राजगढ़ के ब्यावर से कांग्रेस पार्टी के विधायक ने विवाद के शुरू होने के बाद साध्वी के खिलाफ प्रदर्शन किया और विरोध जुलूस लेकर सड़कों पर निकल गए. विरोध के सुर बुलंद करते करते वो इतने आगे निकल गए कि ये बोल दिया कि 'अभी तो बस साध्वी का पुतला जलाकर विरोध प्रदर्शन किया है, अगर वो यहां आएंगी तो उन्हें भी जला दिया जाएगा.' साध्वी प्रज्ञा ने घर आने की चुनौती दी तो विधायक गोवर्धन दांगी के इस बयान से सकपका कर कांग्रेस पार्टी ने किनारा कर लिया. हालांकि इस विवाद को बढ़ता देख विधायक भी इस बयान से बैकफुट पर चले गएं और उन्होंने मांफी भी मांग ली. लेकिन प्रज्ञा ठाकुर ने विधायक को घर आने की सीधी धमकी दे दी.

कांग्रेस के बयान से भड़की हिंदू महासभा

कांग्रेस विधायक ने जलाने की धमकी दी तो, अखिल भारतीय हिंदू महासभा भी क्रोधित हो गई. हिंदू महासभा ने खुली चुनौती देते हुए ये कह दिया कि 'कोई साध्वी प्रज्ञा को हाथ तो लगाकर दिखाए...' संगठन कं प्रवक्ता अभिषेक अग्रवाल ने कहा कि महासभा को मानने वाले लोगों के साथ बुरा बर्ताव किया गया तो उसका जवाब अखिल भारतीय हिंदू सभा देगी.

साध्वी प्रज्ञा को मिला ये ऑफर

अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने प्रज्ञा ठाकुर को ऑफर देते हुए कहा कि 'संसद से इस्तीफा देकर हिंदू महासभा का नेतृत्व करें साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, शत प्रतिशत वोटों से चुनाव जीतेंगी.' प्रवक्ता अभिषेक अग्रवाल ने साध्वी से अपील करते हुए कहा कि वो आएं और महासभा का नेतृत्व करें. इसके साथ ही संगठन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पंडित अशोक शर्मा ने भी उन्हें ऑफर देते हुए उनसे निवेदन किया कि अगर वे हिंदू महासभा का नेतृत्व संभालेंगी तो संसद से इस्तीफा दे दें.

इसे भी पढ़ें: गांधी के हत्यारे गोडसे को प्रज्ञा ठाकुर ने फिर बताया देशभक्त! भाजपा की बढ़ गई मुसीबत

कैसे शुरू हुआ विवाद?

इस विवाद की शुरुआत उस वक्त हुई थी जब संसद से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त करार दे दिया था. इस बयान के बाद कांग्रेस और सभी विरोधी दलों ने भाजपा पर हमला करना शुरू कर दिया. जिसके बाद भाजपा ने तत्कालिक तौर पर साध्वी पर कार्रवाई कर दी. इसके अलावा दबाव बढ़ने पर खुद प्रज्ञा ठाकुर ने संसद में माफी मांगते हुए ये कहा कि अगर मेरी किसी भी टिप्पणी से अगर किसी को आहत पहुंचा है तो मैं क्षमा मांगती हूं. 

अब जब विधायक के बयान से बवाल बढ़ गया है तो कांग्रेस इससे किनारा करने लगी. लेकिन साध्वी प्रज्ञा की चुनौती के बाद कांग्रेस विधायक का क्या रुख होता है, ये वाकई दिलचस्प होता है. और देखने वाली बात ये भी होगी कि सांसद प्रज्ञा ठाकुर विधायक के घर 8 दिसंबर को पहुंचती हैं या नहीं.

इसे भी पढ़ें: साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के फिर विवादित बोल, पीएम के अभियान पर साध्वी का सवाल!