'गरीब की झोपड़ी नहीं, मोदी का पुतला जलाओ'! पढ़ें: PM मोदी की 11 बड़ी बातें

देश की राजधानी दिल्ली में आयोजित भाजपा की आभार रैली के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक तीर से दो निशाने लगाए. इस दौरान उन्होंने दंगाइयों से अपील की कि वो गरीबों की झोपड़ी ना जलाएं, बल्कि मोदी का पुतला जलाएं.

'गरीब की झोपड़ी नहीं, मोदी का पुतला जलाओ'! पढ़ें: PM मोदी की 11 बड़ी बातें

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की राजधानी दिल्ली के रामलीला मैदान में ऐतिहासिक जनसभा को संबोधित किया. इसमें उन्हें 11 लाख लोगों के हस्ताक्षर की प्रति भेंट की गई. इस रैली के जरिए पीएम मोदी ने हुंकार भरते हुए देश में दंगा फैलाने वालों को करारा जवाब दिया.

आभार रैली में PM की हुंकार! 11 बड़ी बातें

1). 
'इस बिल के पास होने के बाद कुछ राजनीतिक दल तरह-तरह की अफवाहें फैलाने में लगे हैं, लोगों को भ्रमित कर रहे हैं, भावनाओं को भड़का रहे हैं.'

2).
'आज जो ये लोग कागज-कागज, सर्टिफिकेट-सर्टिफिकेट के नाम पर मुस्लिमों को भ्रमित कर रहे हैं, उन्हें ये याद रखना चाहिए कि हमने गरीबों की भलाई के लिए योजनाओं के लाभार्थी चुनते समय कागजों की बंदिशें नहीं लगाईं'

3).
'स्कूल बसों पर हमले हुए, ट्रेनों पर हमले हुए, मोटर साइकिलों, गाड़ियों, साइकिलों, छोटी-छोटी दुकानों को जलाया गया है. भारत के ईमानदार टैक्सपेयर के पैसे से बनी सरकारी संपत्ति को खाक कर दिया गया है. इसके बाद इनके इरादे कैसे हैं, ये देश अब जान चुका है.'

4).
मैं इन लोगों को कहना चाहता हूं कि मोदी को देश की जनता ने बैठाया, ये अगर आपको पसंद नहीं है, तो आप मोदी को गाली दो, विरोध करो, मोदी का पुतला जलाओ. लेकिन देश की संपत्ति मत जलाओ, गरीब की रिक्शा मत जलाओ, गरीब की झोपडी मत जलाओ.'

5).
'पुलिस वालों को अपनी ड्यूटी करते समय हिंसा का शिकार होना पड़ रहा है. जिन पुलिसवालों पर ये लोग पत्थर बरसा रहें हैं, उन्हें जख्मी करके आपको क्या मिलेगा? आज़ादी के बाद 33 हजार से ज्यादा पुलिसवालों ने, शांति के लिए, आपकी सुरक्षा के लिए शहादत दी है.'

6).
'जब कोई संकट या मुश्किल आती है तो ये पुलिस न धर्म पूछता है न जाति पूछता है, न ठण्ड देखता है न बारिश देखता है और आपकी मदद के लिए आकर खड़ा हो जाता है.'

7).
'ये लोग उपदेश दे रहे हैं, लेकिन शांति के लिए एक शब्द बोलने के लिए तैयार नहीं हैं, हिंसा रोकने के लिए एक शब्द बोलने के लिए तैयार नहीं है. इसका मतलब है कि हिंसा को, पुलिस पर हो रहे हमलों को आपकी मौन सहमति है. ये देश देख रहा है.'

8).
'नागरिकता संशोधन कानून भारत के किसी नागरिक के लिए, चाहें वो हिंदू हो या मुसलमान, के लिए है ही नहीं. ये संसद में बोला गया है. ये कानून का इस देश के अंदर रह रहे 130 करोड़ लोगों से कोई वास्ता नहीं है.'

9).
'जिन लोगों पर आप ने अपने घरों को नियमित कराने के लिए भरोसा किया था, वो खुद क्या कर रहे थे? इन लोगों ने दिल्ली के सबसे महंगे इलाकों में दो हजार से ज्यादा बंगले, अवैध तरीके से अपने करीबियों को दे रखे थे'

10).
'इतने कम समय में टेक्नोलॉजी की मदद से दिल्ली की 1700 से ज्यादा कॉलोनियों की बाउंड्री को चिह्नित करने का काम पूरा किया जा चुका है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी: दइतना ही नहीं 1200 से ज़्यादा कॉलोनियों के नक़्शे भी पोर्टल पर डाले जा चुके हैं.'

11).
'शहर में प्रदूषण कम हो, इसके लिए भी हमने निरंतर प्रयास किया है. बीते 5 वर्षों में दिल्ली में सैकड़ों नए CNG स्टेशन बनाए गए हैं. यहां जो उद्योग-धंधे चल रहे हैं, उनमें से आधों को PNG आधारित बनाया जा चुका है.'

इसे भी पढ़ें: PM मोदी की हुंकार, 'कांग्रेस की सुस्त कार्यशैली में दिखती हैं उनकी नीयत'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित 'आभार रैली' की शुरुआत 'विविधता में एकता, भारत की विशेषता', नारा लगवाकर की. जिसके बाद मोदी की हर बात पर लोगों की गूंज सुनाई दी.

इसे भी पढ़ें: 'मुस्लिमों के लिए सैंकड़ों देश है! तो हिंदू होना पाप है क्या?'