विधानसभा में बोले CM योगी, कत्लेआम करने वाले लोग हमें उपदेश न दें

उत्तर प्रदेश विधानसभा में इस समय शीतकालीन सत्र चल रहा है. विपक्ष सरकार पर प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर आक्रामक है. इस बीच भारी हंगामे के बीच CM योगी ने विधानसभा को सम्बोधित किया.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Dec 19, 2019, 12:48 AM IST
    • उत्तर प्रदेश विधानसभा में इस समय शीतकालीन सत्र चल रहा है
    • CM योगी ने विपक्ष को घेरा
    • सिक्ख दंगों पर कांग्रेस को घेरा
    • भाजपा विधायकों ने अफसरों की कार्यप्रणाली पर उठाए सवाल
 विधानसभा में बोले CM योगी, कत्लेआम करने वाले लोग हमें उपदेश न दें

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि जिन लोगों ने कई बेगुनाह लोगों की जान ली हो और उनका कत्लेआम कराया हो, उनको हमें उपदेश देने की जरूरत नहीं है. सपा पर हमलावर होते हुए योगी ने कहा मुजफ्फरनगर के दंगे याद हैं, पहले विपक्ष अपना आंचल झांककर देखे. सिखों का कत्लेआम कराने वाले अब उपदेश दे रहे हैं.

सिक्ख दंगों पर कांग्रेस को घेरा

 CM योगी आदित्यनाथ ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस ने निर्दोष सिखों का कत्लेआम कराया था और आज वही लोग हमें ज्ञान दे रहे हैं. कुछ लोग पाकिस्तान की भाषा बोल रहे हैं और कत्लेआम कराने वाले उपदेश दे रहे हैं. सीएम ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश में अपराधों में कमी आई है और हमने नारी के सम्मान में शौचालय का निर्माण कराया. साथ ही गरीब को रसोई कनेक्शन उपलब्ध कराया.

भाजपा विधायकों ने अफसरों की कार्यप्रणाली पर उठाए सवाल

गाजियाबाद के लोनी से भाजपा विधायक नंद किशोर गुर्जर ने अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए और विधान सभा अध्यक्ष से न्याय की मांग की. उन्होंने कहा कि अधिकारी अपने आपको ईमानदार समझते हैं, नेताओं को बेईमान समझते हैं. अधिकारियों और उनकी पत्नियों की संपत्तियों और उनके एनजीओ की जांच होनी चाहिए. भाजपा विधायक हर्ष वाजपेयी ने कहा कि अधिकारियों में भ्रष्टाचार करने की आदत पड़ गयी है. अधिकारियों को लगता है कि सरकारें आती जाती रहती है पर उनकी नौकरी पक्की है. इस नाते वे भ्रष्टाचार करते हैं.

पुलिस उत्पीड़न करने पर विधायकों ने किया था विरोध

आपको बता दें कि पुलिस उत्पीडऩ पर अपनी बात कहना चाह रहे गाजियाबाद की लोनी विधानसभा सीट से विधायक नंद किशोर गुर्जर के समर्थन में उनकी पार्टी के विधायक तो आये ही विपक्ष भी साथ खड़ा हो गया था. अंतत: विधानसभा अध्यक्ष को सदन की कार्यवाही बुधवार तक के लिए स्थगित करनी पड़ी थी.

क्लिक करें- सत्ता पक्ष के विधायकों ने ही स्थगित करा दिया सदन

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़