देशद्रोह के संगीन मामले पर भी धर्म की राजनीति करने से बाज नहीं आ रहे हैं कांग्रेसी

कांग्रेस पार्टी अपनी राजनीति चमकाने के लिए सारी सीमाओं को ताक पर रखने का मन बना लिया है. तभी तो कांग्रेस पार्टी के नेता देशद्रोह के मामले को भी धर्म के चश्मे से देख रहे हैं.

देशद्रोह के संगीन मामले पर भी धर्म की राजनीति करने से बाज नहीं आ रहे हैं कांग्रेसी

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के साथ पकड़े गए डीएसपी देवेंद्र सिंह को लेकर कांग्रेस को अब इसमें धार्मिक रंग नजर आने लगा है. लोकसभा सांसद और कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने ट्विटर पर इसे धार्मिक रंग देने की कोशिश की है.

कांग्रेस की 'धर्म पॉलिटिक्स'

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने ट्विटर पर लिखा है कि 'अगर डीएसपी देवेंद्र सिंह का नाम देवेंद्र खान होता तो RSS की प्रतिक्रिया और ज्यादा तीखी और मुखर होती.' यही नहीं अधीर रंजन चौधरी ने पुलवामा हमले की जांच पर सवाल उठाए हैं और नए सिरे से जांच की मांग की है.

कल कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी देवेंद्र सिंह के मामले में सवाल खड़े किए थे. उन्होंने भी कल ट्वीट कर पूछा था कि क्या 2001 के संसद हमले में भी देवेंद्र सिंह का हाथ था. क्या पुलवामा हमले में भी देवेंद्र सिंह का हाथ था. सुरजेवाला ने पूछा था कि देवेंद्र सिंह सिर्फ एक मोहरा है और असली खिलाड़ी कही और छिपे हैं. क्या ये बड़ी साज़िश है कर रहा था या वह सिर्फ एक मोहरा है और असली खिलाड़ी कहीं और छुपे हैं. ये बड़ी साजिश है?

कांग्रेस पार्टी देश के हर ऐसे मुद्दों को राजनीति के चश्मे से देखकर सियासी तराजू में तौलना शुरू कर देती है. 

इसे भी पढ़ें: कश्मीर से गिरफ्तार डीएसपी और आतंकियों का कनेक्शन खंगालने का काम अब करेगी NIA

आपको बता दें कि देश में हर साल आतंकियों के नापाक नजरें देश के राष्ट्रीय त्योहारों पर रहती हैं. लेकिन इस बार कश्मीर के DSP का नाम आतंकियों के साथ जैसे ही जुड़ा हर कोई हैरत में पड़ गया. जम्मू कश्मीर पुलिस के डीएसपी के बारे में कई चौंकने वाले सच सामने आ रहे हैं. ख़बर है कि गणतंत्र दिवस के पहले आतंकियों को दिल्ली पहुंचाने के लिए देवेंद्र सिंह ने 12 लाख रुपये में डील की थी.

इसे भी पढ़ें: हिज्बुल के दो आतंकियों के साथ कार से DSP गिरफ्तार, लगे संगीन आरोप