दिल्ली जाम से त्रस्त, सरकार विरोधी मस्त!

CAA और NRC की आड़ लेकर राजनीति लगातार जारी है. इस बीच पिछले एक महीने से दिल्ली जाम से परेशान है, लेकिन प्रदर्शनकारी मौज में हैं.

दिल्ली जाम से त्रस्त, सरकार विरोधी मस्त!

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून की आड़ में सड़कों पर बवाल के बाद अब सड़क को मौज का अड्डा बना लिया गया है. दिल्ली की जनता पिछले एक महीने से भीषण जाम से जूझ रही है लेकिन कई लोगों की इसकी कोई परवाह नहीं है. इस मामले में हम आगे आपको पूरी कहानी बताते हैं. नीचे- 5 तस्वीरें आपको दिखाते हैं. 

प्रदर्शन का नाम, जाम से दिल्ली परेशान!

तस्वीर 1- सड़क को बनाया पिकनिक स्पॉट!

तस्वीर 2- बंद सड़क पर क्रिकेट!

तस्वीर 3- बंद सड़क पर  गिल्ली डंडा !

तस्वीर 4- बंद सड़क पर दुकानें

तस्वीर 5- बंद सड़क पर रंगोली

आप देख सकते हैं कि दिल्ली की एक मुख्य सड़क किस तरह से पिकनिक स्पॉट बन गई है. उसी सड़क पर आराम से लोग क्रिकेट खेल रहे हैं. बंद सड़क पर गिल्ली डंडा खेला जा रहा है. बंद सड़क पर दुकानें सजी है. सड़क पर रंगोली बन रही है. यानी हर वो काम सड़क पर हो रहा है जो सड़क पर बिल्कुल नहीं होनी चाहिए.

करीब एक महीने से बंद हैं रास्ते

कालिंदी कुंज-शाहीन बाग का रास्ता पिछले करीब एक महीने से बंद है. दिल्ली नोएडा और फरीदाबाद से जुड़े इस महत्वपूर्ण रास्ते के बंद होने से लाखों लोगों को परेशानी उठाने पड़ रही है. दिल्ली का ये रास्ता नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन की वजह से 15 दिसंबर से बंद है. इसका असर ये है कि इसके आसपास रहने वाले लोग 1 महीने से अलग-अलग रास्तों से जाने के लिए मजबूर है.

हाईकोर्ट ने सुनाया फैसला

परेशान लोगों ने इसको लेकर दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. जिस पर दिल्ली हाईकोर्ट ने आज फैसला सुनाया है. दिल्ली हाईकोर्ट ने कालिंदी कुंज-शाहीन बाग के बीच बंद रास्ते को खुलवाने की मांग वाली अर्जी पर सरकार से कहा है कि वो इस मामले में उचित कार्रवाई करे.

इसे भी पढ़ें: कुर्सी बचाने के लिए जामिया की VC ने दिल्ली पुलिस पर फोड़ा ठीकरा

कालिंदी कुंज का इलाका दिल्ली, फरीदाबाद और नोएडा को जोड़ने वाली सड़क का अहम हिस्सा है. नोएडा से यमुना नदी पर बने पुल को पार करने के बाद सड़क दिल्ली पहुंचती है. और इसी जगह पर कालिंदी कुंज है. जहां शाहीन बाग को जोड़नेवाली सड़क और ओखला अंडरपास बंद है लोग परेशान है. लेकिन यहां पर सरकार विरोधी प्रदर्शनकारी मस्त हैं.

इसे भी पढ़ें: CAA की आड़, विपक्ष में दो फाड़