• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 86,422 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 1,73,763: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 82,370 जबकि अबतक 4,971 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • रेलवे ने अपील की है कि रोगग्रस्त व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं, दस वर्ष से छोटे बच्चे, 65 वर्ष से अधिक आयु के लोग रेल यात्रा से बचें
  • 31 मई, 2020 की सुबह 8:00 बजे से रेलगाड़ियों के अग्रिम आरक्षण की अवधि को 30 दिन से बढ़ा कर 120 दिन किया जाएगा
  • कोविड -19 से लड़ने और घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए चिकित्सा उपकरणों और इनपुट पर सीमा शुल्क से छूट
  • लॉकडाउन के बीच 3530 रेकों के जरिए 98+ LMT खाद्यान्न की ढ़ुलाई हुई: FCI
  • 584 लाइफलाइन उड़ानों ने ने 5,40,985 किलोमीटर की दूरी तय कर 935 टन मेडिकल और आवश्यक कार्गो का परिवहन किया
  • PMJAY से संबंधित प्रश्नों के उत्तर पाने हेतु आयुष्मान भारत व्हाट्सएप नंबर 9868914555 पर मास्टर आयुष्मान से पूछें
  • आईआईटी मद्रास ने कोविड-19 के लक्षणों का शीघ्र पता लगाने के लिए कलाई ट्रैकर का विकास किया
  • सूरत स्मार्ट सिटी कोविड-19 के प्रबंधन और कंटेनमेंट के लिए प्रमुख आईटी पहल की

अगर पाक हुआ नापाक तो पीओके अब दूर नहीं

सेनाध्यक्ष ने कहा कि संसद का आदेश मिला तो पीओके को हासिल करने के लिए तैयार है सेना    

अगर पाक हुआ नापाक तो पीओके अब दूर नहीं

नई दिल्ली, भारत के अंदरूनी मामलों पर रोते रहना पाक की आदत भी है और राज-नीति भी. पाकिस्तानी सरकार अपने देश में अपनी दुकान भारत की दम पर ही चलाती है. नक़ल करनी है तो भारत की करनी है और विरोध करना है तो भी भारत का ही करना है. लेकिन अब अगर पाकिस्तान से ज़रा सी भी नासमझी हुई तो उसे समझ लेना चाहिए कि भारतीय सेना उसे सम्हलने का दूसरा मौक़ा नहीं देगी.

पहले पीओके बाद में पाकिस्तान  

भारत के एजेंडे में अब तक पीओके खुल कर कभी नहीं था और कायदे से अब भी पीओके  को हासिल करने को लेकर भारत ने कोई अंतर्राष्ट्रीय वक्तव्य जारी नहीं किया है पर अब पाकिस्तान की हरकतों को देखते हुए लगता है कि पीओके ज्यादा दूर नहीं है. अगर आतंकवादी देश पाकिस्तान ने कोई भी गलती जानबूझ के कर दी, तो शायद अब भारत का दिया घाव वो कभी भूल नहीं पायेगा. अब पाकिस्तान से पहले पीओके का हिसाब करेगा भारत जिस पर भारत की कड़ी नज़र है.

नए सेना-प्रमुख ने अपने लौह-इरादों का परिचय दिया

भारत की थल सेना के नए सेना-प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे नेक दिल तो हैं पर नरम-दिल नहीं. और ये बात अब पाकिस्तान को अच्छी तरह से समझ लेनी चाहिए. जनरल नरवणे ने अपनी प्रथम प्रेस कांफ्रेंस में अपने गरम इरादों की झलक दिखा दी.  जनरल नरवणे ने कहा कि  पीओके पर अगर संसद का आदेश देगी तो सेना उसको हासिल करने में देर नहीं करेगी!

ये शब्द थे जनरल नरवणे के 

जनरल नरवणे के शब्दों में एक गंभीर घन-गर्जन था जो उन्होंने मर्यादा की सीमाओं के अंदर रहते हुए प्रस्तुत किये. उन्होंने कहा कि - पीओके भारत का एक संसदीय संकल्प है जिसके अनुसार पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर अर्थात पीओके भारत का हिस्सा है. यदि संसद यह संकल्प पारित करती है कि पीओके हमारा होना चाहिए और इस संबंध में हमें आदेश देती है तो पीओके हासिल करने के लिए हम तैयार हैं. 

ये भी पढ़ें. नागरिकता संशोधन क़ानून लागू, विरोधियों के मुंह पर देश का तमाचा