मध्यप्रदेश: कुर्सी की आस में कमलनाथ बने विधायकों के दास

मध्यप्रदेश की कुर्सी बचाने की कोशिश में मुख्यमंत्री कमलनाथ एक एक विधायक को मनाने की तैयारी में हैं. खबरों के मुताबिक वे नाराज विधायकों के परिजनों से मिलकर उन्हें मनाएंगे.

मध्यप्रदेश: कुर्सी की आस में कमलनाथ बने विधायकों के दास

भोपाल: भोपाल के टीटी नगर थाने में कांग्रेस विधायक बिसाहू लाल सिंह के गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई है. कांग्रेस का कहना है कि वो पिछले तीन दिनों से लापता हैं. हॉर्स ट्रेडिंग के चलते बिसाहू लाल के गुम होने की आशंका जताई गई है. दूसरी तरफ मुख्यमंत्री कमलनाथ के होश उड़े हुए हैं. वे नाराज विधायकों से मिलकर उन्हें कांग्रेस से जोड़े रखने का प्रयास करेंगे. उन्होंने आरोप लगाया कि गायब विधायक बिसाहू लाल सिंह को बीजेपी नेताओं ने कर्नाटक भेज दिया है. 

विधायक हरदीप सिंह डंग ने दिया इस्तीफा

इस बीच कांग्रेस के विधायक हरदीप सिंह डंग ने इस्तीफा देने का ऐलान भी कर दिया है. भाजपा के सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस के कुल 15 विधायक इस्तीफा देने की तैयारी में हैं. डंग ने अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष और मुख्यमंत्री कमलनाथ को भेजा है. उनका आरोप है कि वे मंदसौर जिले के सुवासरा से दूसरी बार विधायक चुने गए हैं, मगर उनकी बात कोई मंत्री और अधिकारी नहीं सुन रहे हैं. इससे परेशान होकर उन्होंने इस्तीफा दिया है.

दिग्विजय सिंह- विधायकों खरीदने की कोशिश में भाजपा 

दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया, 'बीजेपी खुलेआम कांग्रेस पार्टी के विधायकों को 25-35 करोड़ का लालच दे रही है. उन्होंने कहा था कि बीजेपी वाले 5 करोड़ रुपये पहले, फिर 5 करोड़ रुपये राज्यसभा चुनाव में वोटिंग पर और बाकी मध्य प्रदेश में सरकार गिराने पर दे रहे हैं.' दिग्विजय सिंह ने यह भी दावा किया, 'इन सबके हमारे पास सबूत भी हैं. मध्य प्रदेश के विधायकों को धोखा देकर होटल में लाया गया था.'

कांग्रेस के इन विधायकों से भाजपा का संपर्क

मध्य प्रदेश में पथरिया से बसपा की रमाबाई, भिंड से संजीव कुशवाहा अनूपपुर सीट से कांग्रेस विधायक बिसाहूलाल, सुवासरा से विधायक हरदीप सिंह डंग, सुमावली से विधायक ऐंदल सिंह कंसाना, विधायक रघुराज कंसाना, दिमनी से विधायक गिर्राज दंडोतिया, गोहद से विधायक रणवीर जाटव, सपा विधायक राजेश शुक्ला और निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा ऐसे नेता हैं जो लगातार किसी बड़े भाजपा नेता के संपर्क में हैं. 

ये भी पढ़ें- कैसे बचेगी कमलनाथ सरकार,15 विधायक बगावत के लिये तैयार