Mamata Banerjee का आरोप, 'Twitter को खत्म करना चाहती है केंद्र सरकार'

फेक वीडियो मामले में ट्विटर पर कार्रवाई को ममता बनर्जी ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है. उन्होंने कहा कि 'केंद्र सरकार ट्विटर को खत्म करना चाहती है.'

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jun 17, 2021, 07:04 PM IST
  • केंद्र Vs ट्विटर की जंग में दीदी की एंट्री
  • ट्विटर को तबाह करने की कोशिश: ममता
Mamata Banerjee का आरोप, 'Twitter को खत्म करना चाहती है केंद्र सरकार'

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने फेक वीडियो मामले में ट्विटर पर कार्रवाई को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है. उन्होंने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है कि वो ट्विटर को खत्म करना चाहती है.

केंद्र सरकार पर दीदी का हमला

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने ट्विटर को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. ममता बनर्जी ने कहा है कि ट्विटर को तबाह करने की कोशिश हो रही है.

उन्होंने कहा कि 'ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. वो ट्विटर को कंट्रोल नहीं कर सकते. इसलिए उसे तबाह करने की कोशिश कर रहे हैं. वो मुझे कंट्रोल नहीं कर पा रहे थे, तो वो मेरी सरकार को ध्वस्त करना चाहते थे. वो मेरे पार्टी को बर्बाद करना चाहते थे. कुछ पत्रकारों को कंट्रोल करना चाहते थे. लेकिन नहीं कर पाए तो उन्हें मारना चाहते थे. तो उनका यही नज़रिया है, लेकिन इसका अंत आएगा. हर चीज का अंत होता है. मैं इसकी निंदा करती हूं.'
(ममता बनर्जी, सीएम, पश्चिम बंगाल)

वीडियो पर सियासी घमासान शुरू

गाजियाबाद से वायरल हए बुजुर्ग के वीडियो पर सियासी घमासान शुरू हो गया है. ज़ी मीडिया से एक्सक्लूसिव बातचीत में अब्दुल समद ने नये खुलासे किए हैं. जिस दिन अब्दुल समद की पिटाई हुई, उस दिन से लेकर अबतक कहानी में कई मोड़ आ चुके हैं.

वहीं पुलिस ने इस मामले में दो और लोगों को गिरफ्तार किया है. दोनों 5 जून को घटनास्थल पर मौजूद थे. इन लोगों ने भी बुजुर्ग अब्दुल समद को पीटा था. खास बात ये है कि पुलिस की FIR में जय श्रीराम का कहीं जिक्र नहीं है. इसके अलावा कांग्रेस सांसद राहुल गांधी और AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी की शिकायत की गई है.

एक्शन मूड में नजर आए केंद्रीय मंत्री

16 जून 2021 को आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा था कि 'अब ट्विटर के ऊपर आप हिंसा फैलाएंगे, आतंकवाद फैलाएंगे, उत्तेजना फैलाएंगे. संप्रदायिक दंगा करवाने की कोशिश करेंगे. फेक न्यूज़ चलाएंगे तो कार्रवाई होगी ना, तो बस पुलिस भी अपनी कार्रवाई करेगी.'

उन्होंने ये भी कहा कि 'इन्होंने एक फैक्टचेकर नाम की चीज बना रखी है. फैक्टचेकर कैसे अप्वाइंट होते हैं? उनके अप्वॉइंट करने की क्या प्रक्रिया है. कुछ नहीं पता जो मैंने कुछ मालूम किया है. इनके फैक्टचेकर हैं जो नरेंद्र मोदी से घृणा करते हैं. आलोचक नहीं है नफरत करते हैं.'

केंद्रीय मंत्री ने ये भी कहा था कि 'इस तरह के सांप्रदायिक उत्तेजना फैलाने वाला, फेक न्यूज़ चल रही हैं तो अब कई बातें सामने आई हैं. आप लोगों ने भी चलाया है कौन, कैसे, क्या हुआ? तो क्या ट्विटर का काम नहीं है कि इसकी परख करे, क्या हमें सिर्फ एक न्यूज़ और सांप्रदायिक उत्तेजना फैलाने वाले ट्वीट को आगे बढ़ाएं या ना बढ़ाएं.'

इसे भी पढ़ें- आखिर राज्यपाल धनखड़ को दिल्ली भेजने पर उतारू क्यों हैं ममता बनर्जी?

रविशंकर प्रसाद ने कहा था कि 'भारत में आइए खूब व्यापार करिए पैसे कमाइए. नरेंद्र मोदी जी की आलोचना करिए रविशंकर बाबू की करिए. सुधीर बाबू की करिए खूब सवाल पूछिए. लेकिन भारत का कानून मानना पड़ेगा और भारत का संविधान मानना पड़ेगा. देश का आईटी मंत्री इतना ही कहना चाहेगा. नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाला भारत अपनी डिजिटल संप्रभुता पर समझौता नहीं करेगा.'

इसे भी पढ़ें- मेहुल चोकसी भारत छोड़कर क्यों भागा? CBI ने किया खुलासा

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़