CAA के विरोध में लगातार जनसभाएं कर रही हैं मुनव्वर राना की बेटियां

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में मुनव्वर राना की बेटियां लगातार शहीन बाग का तो समर्थन कर रही हैं साथ में वे देश भर में इसके खिलाफ हो रहीं जनसभाओं में भी शिरकत कर रही हैं.

CAA के विरोध में लगातार जनसभाएं कर रही हैं मुनव्वर राना की बेटियां

भोपाल: उर्दू के प्रख्यात शायर मुनव्वर राना की बेटी सुमैया राना नागरिकता संशोधन कानून (CAA)के विरोध में बैठे लोगों के समर्थन में खंडवा पहुंचीं. पिछले करीब 1 महीने से खंडवा में सीएए के विरोध में लोग धरने पर बैठे हैं. इन्हीं का समर्थन करने सुमैया राना खंडवा आई. मुनव्वर राणा की बेटियों के भीतर मासूम और प्रताड़ित हिंदुओं के खिलाफ इतना जहर भरा है कि उन्होंने यहां तक कह दिया था कि भारत से ज्यादा महत्वपूर्ण उनके लिये इस्लाम है.

नागरिकता कानून के विरोध में उगल रहीं जहर

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में चल रहे सीएए, एनआरसी के विरोध प्रदर्शन को शनिवार को दो महीने पूरे हो गए. इस अवसर पर धरने पर पहुंची मशहूर शायर मुनव्वर राना की बेटी सुमैया राना ने कहा था कि हमें ध्यान रखना है कि हमें न्यूट्रल (तटस्थ) नहीं होना है वरना हमारी पहचान ही खत्म हो जाएगी. पहले हम मुसलमान हैं और उसके बाद कुछ और. 

CAA और NRC के खिलाफ हों एकजुट: सुमैया राणा

जनसभा को संबोधित करते हुए सुमैया ने कहा कि CAA और NRC के बारे में लोगों को एकजुट रहने और खुलकर मुखालफत करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि आने वाले समय में इस देश में बहुत बड़ी क्रांति आने वाली है और इस क्रांति के बाद हिंदुस्तान वही देश बनेगा जिसकी कल्पना गांधी नेहरू और आंबेडकर ने की थी. स्थानीय पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान पर भी निशाना साधा. 

CAA को बताया असंवैधानिक

भारत ने उन लोगों को नागरिकता देने के लिये अपना हाथ आगे बढ़ाया है जो लोग वर्षों से पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में क्रूरता और अत्याचार के शिकार हो रहे हैं. अपने धर्म, अपनी बेटियों और बच्चों की जिंदगी बचाने के लिये जो लोग भारत में शरण लेने आए हैं. इस कानून को सुमैया राणा ने संविधान विरोधी बताया है. मुनव्वर राना की बेटी ने कहा कि CAA पूरी तरह से असंवैधानिक है और लोगों से उनका हक छीना जा रहा है. कुछ लोग भारत में हिंदू-मुस्लिम झगड़ा करा कर देश को बांटना चाहते हैं.

ये भी पढ़ें- मुनव्वर राणा की बेटियों के लिये पहले इस्लाम फिर हिंदुस्तान