मोदी ने लोगों से लॉकडाउन को गंभीरता से लेने का किया आग्रह

जनता कर्फ्यू तो भारत में सफल रहीं लेकिन कुछ लोग अभी भी हैं जो लॉकडाउन को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. जिसे देश के प्रधानमंत्री ने सोशल मीडिया साइट पर ट्वीट कर गंभीरता से लेने की बात कहीं.

मोदी ने लोगों से लॉकडाउन को गंभीरता से लेने का किया आग्रह

नई दिल्ली: कोरोना वायरस से बचाव के लिए भारत सरकार सहित कई राज्य सरकारों ने भी अहम कदम उठाए हैं. भारत के करीब 75 जिलों में लॉकडाउन लागू कर दिया गया है. 

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए लोगों को घर पर रहने की सलाह दी थी और साथ ही 22 मार्च को जनता कर्फ्यू का भी एलान किया था. जिसका पूरे देश ने स्वागत किया और जनता कर्फ्यू को सफल बनाया. इतना ही नहीं जनता कर्फ्यू के दौरान शाम 5 बजे अपने-अपने घरों के छतों से भी लोगों ने पीएम के कहे अनुसार कोरोना वायरस से बचाव कार्यों में लगे लोगों को सम्मानित भी किया.  कोरोना वायरस के इस भयावह स्थिति में भी देश में कई लोग हैं जो लोगों की सेवा में लगे हुए हैं जिनके लिए पूरे देश ने घरों से घंटियां, तालियां व थालियां बजाई.

कोरोना वायरस: महामारी फैलती देख धरना स्थल से भाग रही हैं शाहीन बाग की महिलाएं.

 

लेकिन करीब 1 घंटे पहले मोदी ने ट्वीट कर लोगों को लॉकडाउन को और इस दयनीय स्थिति को गंभीरता से लेने की बात कहीं. मोदी ने लोगों से लॉकडाउन के नियमों का सही तरीके से पालन करने को कहा और साथ ही राज्य सरकारों से भी अपील की कि वह इस ओर ध्यान दें.

31 मार्च तक सारी ट्रेनें हुई रद्द

कोरोना को गंभीरता से लेते हुए भारत सरकार ने सारी ट्रेने 31 मार्च तक रद्द कर दी है. इसके अंतर्गत पैसेंजर ट्रेन, लंबी दूरी की ट्रेनें, एक्सप्रेस व इंटरसिटी ट्रेने को रद्द कर दिया गया है.