• पूरी दुनिया में कोरोना से 1201964 लोग प्रभावित, अब तक 64727 लोगों की मौत हुई,246638 लोग रोगमुक्त हुए
  • भारत में कोरोना मरीजों की कुल संख्या 3530, इसमें से 89 लोगों की मौत हुई, 213 इलाज के बाद ठीक हुए
  • महाराष्ट्र में कोरोना के सबसे ज्यादा 490 मरीज, 24 लोगों की मौत हुई, 42 लोग ठीक हुए
  • तमिलनाडु में कोरोना से 411 लोग प्रभावित, 2 की मौत, 6 लोग ठीक हुए
  • केरल में अब तक 295 लोगों को हुआ कोरोना, 2 की मौत हो चुकी है, 41 इलाज के बाद ठीक हुए
  • दिल्ली में कोरोना के 445 मरीज, 6 की मौत, 15 लोग ठीक हुए, मध्य प्रदेश में कोरोना से 155 लोग संक्रमित, 9 लोगों की मौत
  • यूपी में कोरोना के 174 मरीज, 19 लोग ठीक हुए, 2 लोगों की मौत
  • राजस्थान में कोरोना के 200 मरीज, 21 लोग इलाज के बाद ठीक हुए, अभी तक एक भी मौत नहीं
  • तेलंगाना में कोरोना के 158 मरीज, 7 लोगों की मौत, मात्र 1 ही इलाज के बाद ठीक हुआ
  • कर्नाटक में कोरोना के 128 मरीज और आंध्र प्रदेश में 161 लोगों में कोरोना वायरस का असर

दिल्ली की दंगा 'डायरी' में पढ़ें, हिंसा की टाइमलाइन

दिल्ली को दंगा और आग के हवाले करने वाले दंगाईयों के कलेजे को बहुत ठंडक मिल रही होगी. क्योंकि उनके नापाक मंसूबे के चलते राजधानी जल रही है. आपको दिल्ली के दंगे वाली डायरी में पढ़ाते हैं, हिंसा की पूरी टाइमलाइन

दिल्ली की दंगा 'डायरी' में पढ़ें, हिंसा की टाइमलाइन

नई दिल्ली: दिल्ली दंगों ने कई घरों के चिराग को बुझा दिया, तो किसी का पति दंगाइयों हाथों मारा गया. बीते 3 दिन में नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के लोगों ने अपनी जिंदगी का सबसे बुरा दौर देखा है. दंगों की आग भले शांत हो जाए. जिंदगी एक बार फिर पटरी पर लौट आए, लेकिन दिल्ली के एक हिस्से में समुदायों के बीच जो खाईं पैदा हुई है उससे भरने में बहुत वक्त लगेगा,

आपको दिल्ली हिंसा की टाइमलाइन समझाते हैं.

दिल्ली की दंगा डायरी'

24 फरवरी, सुबह 7 बजे- मौजपूर चौक पर CAA के समर्थन में लोग धरने पर बैठे
24 फरवरी, सुबह 10 बजे- कबीर नगर के पास CAA विरोधी पर धरने पर बैठ गए
24 फरवरी, सुबह 10:30 बजे- CAA विरोधी और समर्थकों में पत्थरबाजी शुरू हुई
24 फरवरी, दोपहर 2 बजे- जाफराबाद में कई घरों और दुकानों में आग लगा दी गई
24 फरवरी, दोपहर 2:30 बजे- भजनपुरा और गोकलपुरी में कई इलाकों में हिंसा
24 फरवरी, दोपहर 2:30 बजे- गोकलपुरी के हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल को पत्थर लगा, मौत हो गई
24 फरवरी, दोपहर 2.30 बजे- DCP शाहदरा अमित शर्मा चांद बाग़ में गंभीर रूप से घायल हुए
24 फरवरी, शाम 4 बजे- कर्दमपुरी में पत्थरबाजी हुई, आंसू गैस के गोले छोड़े गए
24 फरवरी, रात 9 बजे- करीब 9 बजे हिंसक भीड़ ने गोकुलपुरी में टायर मार्केट में आग लगा दी

दिल्ली दंगों पर आज अब तक?

26 फरवरी को सुबह से ही जौहरीपुर इलाके में पैरामिलिट्री के जवानों का फ्लैग मार्च किया. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हिंसा काबू करने के लिए तुरंत कार्रवाई होनी चाहिए थी. सीलमपुर में एक महीने के लिए धारा 144 लगाई गई. पीएम मोदी ने ट्वीट कर शांति की अपील की. दंगे पर सियासत होने लगी तो सोनिया गांधी के प्रकाश जावड़ेकर ने जवाब दिया. दिल्ली दंगों में जान गंवानें वालों की संख्या 24 हुई. जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने 5 IPS अफ़सरों का तबादला किया. कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां को पुलिस ने हिरासत में लिया. पूर्वी दिल्ली के खुरेजी में पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हटाया और NSA अजित डोवल दिल्ली के मौजपुर पहुंचे. उन्होंने लोगों से अपील की और गृहमंत्री अमित शाह को हालात की जानकारी दी.

दंगे रोकने के लिए सरकार के कदम?

  • सरकार ने NSA अजित डोवल को दी ज़िम्मेदारी
  • अजित डोवल ने दिल्ली के कई इलाकों का दौरा किया
  • NSA अजित डोवल ने रिपोर्ट PMO को सौंपी 
  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शांति की अपील की
  • गृह मंत्री अमित शाह ने सर्वदलीय बैठक बुलाई
  • दिल्ली में पुलिस और पैरा मिलिट्री फोर्स की तैनाती
  • दिल्ली के कई इलाकों में पुलिस का फ्लैग मार्च

दिल्ली पुलिस कह रही है कि अब हालात काबू में हैं. दिल्ली पुलिस ने अफवाहों पर यकीन ना करने के लिए कहा है. तो वहीं सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने बेहद तल्ख टिप्पणी की और पुलिस को फटकार लगाई.

दिल्ली हाईकोर्ट का प्रहार

1. दिल्ली में दोबारा '1984' नहीं होने देंगे
2. लोगों को भरोसा दिलाएं कि वो सुरक्षित हैं
3. हिंसा पर कड़े कदम उठाने की ज़रूरत
4. भड़काऊ बयान देने वालों पर FIR करें
5. दिल्ली में हालात बेहद गंभीर हैं

इसे भी पढ़ें: दंगाईयों की खैर नहीं, NSA अजित डोवल ने बनाई ये 3 खास योजनाएं

देश की राजधानी दिल्ली में दंगे की आग फैलाने वाले दंगाईयों को ठिकाने लगाने के लिए सरकार लगातार तैयारियां कर रही है. दिल्ली पुलिस ने इसपर नजर बना रखी है. लेकिन दिल्ली वालों के लिए ये दौर वाकई बेहद डरावना है.

इसे भी पढ़ें: सावधान! दिल्ली में "दंगा" से जान बचाने के लिए जरूरी जानकारी

इसे भी पढ़ें: जान की कीमत पर सियासी दुकान चमका रही हैं विपक्षी पार्टियां