• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 86,422 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 1,73,763: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 82,370 जबकि अबतक 4,971 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • रेलवे ने अपील की है कि रोगग्रस्त व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं, दस वर्ष से छोटे बच्चे, 65 वर्ष से अधिक आयु के लोग रेल यात्रा से बचें
  • 31 मई, 2020 की सुबह 8:00 बजे से रेलगाड़ियों के अग्रिम आरक्षण की अवधि को 30 दिन से बढ़ा कर 120 दिन किया जाएगा
  • कोविड -19 से लड़ने और घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए चिकित्सा उपकरणों और इनपुट पर सीमा शुल्क से छूट
  • लॉकडाउन के बीच 3530 रेकों के जरिए 98+ LMT खाद्यान्न की ढ़ुलाई हुई: FCI
  • 584 लाइफलाइन उड़ानों ने ने 5,40,985 किलोमीटर की दूरी तय कर 935 टन मेडिकल और आवश्यक कार्गो का परिवहन किया
  • PMJAY से संबंधित प्रश्नों के उत्तर पाने हेतु आयुष्मान भारत व्हाट्सएप नंबर 9868914555 पर मास्टर आयुष्मान से पूछें
  • आईआईटी मद्रास ने कोविड-19 के लक्षणों का शीघ्र पता लगाने के लिए कलाई ट्रैकर का विकास किया
  • सूरत स्मार्ट सिटी कोविड-19 के प्रबंधन और कंटेनमेंट के लिए प्रमुख आईटी पहल की

सावधान! दिल्ली में "दंगा" से जान बचाने के लिए जरूरी जानकारी

देश की राजधानी दिल्ली में रह रहे लोगों को सावधान रहने की जरूरत है. दंगाईयों ने माहौल को बिगाड़ रखा है, ऐसे में दिल्लीवालों को इस खास जानकारी से जरूर रूबरू होना चाहिए. क्योंकि हर कोई अपनों के सलामती की दुआ कर रहा है.

सावधान! दिल्ली में "दंगा" से जान बचाने के लिए जरूरी जानकारी

नई दिल्ली: देश की राजधानी को आग लगाकर दंगाईयों ने पूरे देश को सहमा दिया है. हर कोई अपनों की सलामती की कामना कर रहा है. दिल्ली सैकड़ों-हजारों किलोमीटर दूर से पढ़ने आए बच्चों की कुशलता के लिए हर मां-बाप दुआ कर रहे हैं. क्योंकि दंगाईयों को तो सिर्फ खून बहाने, आग लगाने और दंगा फैलाने से मतलब है. उन्हें इंसानियत से कोई लेना-देना नहीं है.

दिल्लीवालों के लिए जरूरी जानकारी

1. उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा वाली जगहों पर ना जाएं
2. हिंसा की वजह से उत्तर-पूर्वी दिल्ली में परीक्षाएं रद्द
3. उत्तर-पूर्वी दिल्ली के 10 से ज्यादा इलाकों में हिंसा
4. हिंसा की वजह से स्कूल-कॉलेज बंद किए गए हैं
5. हिंसाग्रस्त इलाकों में ज़रूरी हो तभी घर से निकलें

देश की राजधानी में फैली आज ने हर किसी को डरकर जीने के लिए मजबूर कर दिया है. इसीलिए आपके भरोसेमंद न्यूज प्लेटफॉर्म ज़ी हिन्दुस्तान ने आपसे सावधानी बरतने की अपील कर रहा है. देश में शांति का माहौल बिगाड़ने वाले दंगाईयों से बचने की जरूरत है. क्योंकि इन दंगाईयों ने दिल्ली के कई इलाकों में दहशत फैला रखा है.

दिल्ली के किन इलाकों में जाने से बचें

  • जाफ़राबाद
  • करावलनगर
  • भजनपुरा
  • चांदबाग
  • गोकुलपुरी
  • कर्दमपुरी
  • मौजपुर
  • बाबरपुर
  • यमुना विहार
  • खजूरी खास

क्या है दिल्ली के दंगों की रियलिटी रिपोर्ट

आपको बताते हैं कि दिल्ली के दंगों की रियलिटी रिपोर्ट क्या है. जाफराबाद में धारा 144 लागू है, यहां हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं लेकिन स्थिति नियंत्रण में है. यहां जैकेट का कारोबार होता है. लेकिन हिंसा की वजह से पूरा कारोबार ठप है.

उसी तरह से हिंसा प्रभावित मौजपुर में धारा 144 लागू है, यहां हालात फिलहाल नियंत्रण में है. यहां जींस का कारोबार होता है. यमुना विहार में दिल्ली पुलिस के साथ साथ अर्धसैनिक बलों को भी तैनात किया गया है. यहां लोगों में दहशत है और लोग अपने अपने घरों में बंद हैं. ये भीडभाड़ वाला रिहायशी इलाका है जहां छोटी छोटी दुकाने हैं, फिलहाल ये दुकानें बंद हैं.

गोकुलपुरी में आज भी आगजनी हुई. यहां उपद्रवियों ने स्क्रैप मार्केट में आग लगा दी. यहां स्क्रैप का कारोबार होता है, आगजनी के बाद यहां अर्धसैनिक बलों बलों की गश्त बढ़ा दी है. जबकि करावल नगर में धारा 144 लागू है यहां अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है. यहां छोटी-छोटी दुकानें हैं जो कि फिलहाल बंद हैं.

इसे भी पढ़ें: जान की कीमत पर सियासी दुकान चमका रही हैं विपक्षी पार्टियां

खजूरी खास में उपद्रवियों ने कार जलाई और यहां अर्धसैनिक बलों की तैनाती के बाद भी लोगों में दहशत है. ब्रह्मपुरी में भी स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है और यहां पर लोग दहशत में हैं हालांकि यहां पर बड़ी संख्या में अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है.

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में दंगाईयों के आतंक से अबतक 24 लोगों की मौत, PM मोदी ने कही ये बड़ी बात

अस्पतालों ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर

गुरु तेग बहादुर अस्पताल (GTB)- 9818120026
लोक नायक जय प्रकाश अस्पताल (LNJP)- 7982756328
मौलाना आजाद अस्पताल (MAMC)- 7982756328
राम मनोहर लोहिया अस्पताल (RML)- 9818313342
अल हिंद अस्पताल (AHH)- 9868738042

दिल्ली के पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक के लिए भी हालात आसान नहीं है. कोर्ट की तरफ से आज कमिश्नर पटनायक को नोटिस भेजकर हिंसा पर रिपोर्ट मांगी गई थी. हालांकि हिंसा पर आज पहली प्रतिक्रिया देते हुए कमिश्नर पटनायक ने दावा किया कि दिल्ली में अब हालात पूरी तरह नियंत्रण में हैं.

इसे भी पढ़ें: दिल्ली को दहलाने की साजिश Decode, "दंगे के पीछे ISI और PAK का हाथ"

इसे भी पढ़ें: Delhi Riots: ये हैं दिल्ली को दंगे की आग में जलाने वाले चार प्रमुख गुनहगार