उन्नाव के दुष्कर्म आरोपियों को एनकाउंटर का डर, पुलिस रिमांड पर भेजे गए

उन्नाव रेप केस के पांचों आरोपी गुरुवार सुबह 8 बजे से 12 घंटे तक पुलिस रिमांड पर रहेंगे.इस दौरान वकील संजीव त्रिवेदी भी साथ होंगे. वकील संजीव त्रिवेदी ने  कोर्ट में कहा था कि उनके मुवक्किलों की जान को खतरा है. उन्होंने हैदराबाद एनकाउंटर या मॉब लिंचिंग जैसी किसी घटना को दोहराने की आशंका जताई थी.

उन्नाव के दुष्कर्म आरोपियों को एनकाउंटर का डर, पुलिस रिमांड पर भेजे गए
उन्नावः उन्नाव के बिहार कांड के पांचों आरोपी गुरुवार को 12 घंटे की पुलिस रिमांड पर रहेंगे. बुधवार को पुलिस ने उन्नाव की सीजेएम अदालत में सभी आरोपियों को तीन दिन की रिमांड पर देने की अर्जी दी थी, लेकिन बचाव पक्ष के वकील संजीव त्रिवेदी ने इसका कड़ा विरोध किया. उन्होंने आशंका जताई कि मुवक्किलों के साथ हैदराबाद एनकाउंटर या मॉब लिंचिंग जैसी वारदात हो सकती है. आदेश में कोर्ट ने कहा कि रिमांड के दौरान बचाव पक्ष के वकील भी साथ होंगे. 

मॉब लिंचिंग का भी बताया खतरा
बिहार क्षेत्र में 5 दिसंबर की सुबह गैंग रेप पीड़िता को जलाकर मार दिया गया था. इस मामले में पुलिस ने शिवम, शुभम, हरिशंकर, रामकिशोर और उमेश वाजपेई को गिरफ्तार किया था. केस की जांच कर रही विशेष जांच टीम (एसआईटी) जेल में पांचों आरोपियों के बयान ले चुकी है. बुधवार को सभी को मुख्य न्यायिक मैजिस्ट्रेट (सीजेएम) कोर्ट में पेश किया गया.
पुलिस ने अदालत में पांचों लोगों की तीन दिन की पुलिस रिमांड की अर्जी दी. पुलिस ने तर्क दिया था कि उसे केस से जुड़े कुछ सबूत इकट्ठे करने हैं. 

बचाव पक्ष ने इस अर्जी का कड़ा विरोध किया. वकील संजीव त्रिवेदी ने कहा कि उनके मुवक्किलों की जान को खतरा है. डर इस बात का है कि आरोपियों का हैदराबाद की तरह एनकाउंटर किया जा सकता है या उनके साथ मॉब लिंचिंग हो सकती है.

सिर्फ 12 घंटे की रिमांड पर रहेंगे पांचों आरोपी
लंबी बहस के बाद यह तय हुआ कि पांचों आरोपी गुरुवार सुबह 8 बजे से 12 घंटे तक पुलिस रिमांड पर रहेंगे. इस दौरान वकील संजीव त्रिवेदी भी साथ होंगे. जेल से निकलते और रात में दाखिल होते वक्त सभी का मेडिकल एग्जामिनेशन होगा. कोर्ट ने पुलिस को हिदायत दी है कि आरोपियों की सुरक्षा में कोई चूक नहीं होनी चाहिए.

 

हैदराबाद दुष्कर्म मामलाः 2 आरोपियों ने 9 और महिलाओं से किया था दुष्कर्म

हैदराबाद रेप केस के आरोपियों का हुआ था एनकाउंटर
तेलंगाना के हैदराबाद में 27 नवंबर को चार लोगों ने मिलकर एक वेटनरी डॉक्टर के साथ दुष्कर्म किया था और फिर जला कर हत्या कर दी थी. इस जघन्य कांड से देशभर में उबाल था. इसके बाद 6 दिसंबर को चारों आरोपी पुलिस एनकाउंटर में मारे गए थे. 

पुलिस का कहना था कि उन्हें क्राइम रिक्रिएशन के लिए क्राइम साइट पर ले जाया गया था. वहां उन्होंने भागने की कोशिश की थी. हालांकि इस मामले की एसआईटी जांच चल रही है.

निर्भया के दोषियों को फांसी की याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई टली