• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,35,433 और अबतक कुल केस- 6,48,315: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 3,94,227 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 18,655 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 60.72% से बेहतर होकर 60.80% हुई; पिछले 24 घंटे में 14,335 मरीज ठीक हुए
  • विस्तारवाद का युग समाप्त हो गया है, यह विकास का युग है- प्रधानमंत्री मोदी
  • नॉन-कंटेनमेंट जोन में एएसआई के सभी केंद्रीय संरक्षित स्मारक 6 जुलाई 2020 से आगंतुकों के लिए खुलेंगे
  • #ICMR सार्वजनिक उपयोग के लिए स्वदेशी #COVID19 वैक्सीन 15 अगस्त तक लॉन्च करेगी
  • 775 सरकारी प्रयोगशालाओं और 299 निजी प्रयोगशालाओं में कोविड-19 के कुल परीक्षणों की संख्या 90 लाख के पार
  • कोविड मरीजों की रिकवरी दर 60% के पार; स्वस्थ होने वालों की संख्या सक्रिय मामलों से 1.5 लाख से भी अधिक
  • एमएचआरडी: माध्यमिक पाठ्यक्रमों के लिए एकलव्य पर ऑडियो एमओओसी उपलब्ध है। विजिट करें
  • PSB द्वारा ECLGS के तहत स्वीकृत ऋण की राशि बढ़ कर 63,234.94 करोड़ रुपये हुई , 01-07-2020 तक 33,349.13 करोड़ रुपये के ऋण वितरित

कमलनाथ सरकार के 6 पूर्व मंत्रियों के आवास सील, जानिए पूरी कहानी

मध्यप्रदेश में पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे 6 मंत्रियों के आवास सील कर दिये गए हैं. हालांकि आवास सील करने के पीछे कोरोना वायरस का कोई लेना देना नहीं है.  

कमलनाथ सरकार के 6 पूर्व मंत्रियों के आवास सील, जानिए पूरी कहानी

भोपाल: मध्यप्रदेश में कमलनाथ की सरकार अब इतिहास का हिस्सा हो गयी है. ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में आने के बाद कमलनाथ की सरकार गिर गयी थी और अब शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में भाजपा की सरकार चल रही है. कमलनाथ सरकार के चले जाने का भरोसा अभी तक कुछ पूर्व मंत्रियों को नहीं हो रहा है. वे मंत्री पद से हटने के बावजूद मंत्रियों वाली सुविधाएं नहीं छोड़ पा रहे हैं.

आवास खाली नहीं कर रहे पूर्व मंत्री

कांग्रेस की कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे कई नेता अपनी सुविधाएं छोड़ने में आनाकानी कर रहे हैं. भोपाल प्रशासन कई बार इन नेताओं को नोटिस दे चुका है लेकिन ये लोग अपने आवास नहीं छोड़ रहे हैं. बता दें कि आधा दर्जन से ज्यादा मंत्रियों को नोटिस के बाद उनके सरकारी बंगले सील कर दिए गए हैं. कमलनाथ की कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में मंत्री रहे कुछ विधायकों ने बी-टाइप आवास खाली नहीं किए थे.

मध्यप्रदेश के गृह मंत्रालय को करना पड़ रहा हस्तक्षेप

मध्य प्रदेश के गृह विभाग ने पूर्व मंत्रियों को सरकारी बंगले खाली करने के निर्देश दिए हैं. जिन लोगों को नोटिस जारी हुआ है, उनमें पूर्व मंत्री तरुण भनोत, सज्जन सिंह वर्मा, हुकुम सिंह कराड़ा भी शामिल हैं. आवास खाली करने के लिए उन्हें बीते सप्ताह नोटिस भी जारी किया गया था. नोटिस के बावजूद इनमें से किसी ने भी आवास खाली नहीं किया. ऐसे में सरकार ने कार्रवाई करते हुए बंगलों पर सील लगा दी है.

ये भी पढ़ें- राम मंदिर: सुप्रीम कोर्ट पर सवाल उठाने वालों के लिए तमाचा हैं ये मूर्तियां

पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कही ये बात

मध्यप्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे जीतू पटवारी ने भाजपा पर ओछी राजनीति करने का आरोप लगाया है. जब कि नियम कहते हैं कि मंत्री पद से हटने के बाद सभी को सरकारी सेवाओं का त्याग करना चाहिए. लेकिन कांग्रेस के नेताओं को ये बात समझ में नहीं आ रही है.

क्लिक करें- अम्फान तूफान ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा को दहलाया, कई लोगों की मौत! पढ़ें पूरा UPDATE

जीतू पटवारी का कहना है कि जब भारतीय जनता पार्टी विपक्ष में थी तो उनके कई पूर्व मंत्रियों ने बंगले नहीं खाली किए थे. तब कांग्रेस ने ऐसी कोई कार्रवाई नहीं की. बीजेपी ओछी राजनीति करते हुए बदले की कार्रवाई के तहत इस तरह बंगले खाली करवा रही है.