अयोध्याः रामलला के भव्य मंदिर में लगेगी ब्रज रज से बनी रजत शिला

अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर बनने वाले राम मंदिर में ब्रज की रजत शिला का प्रयोग किया जाएगा. जिसका श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास व युग पुरुष संत परमानंद महाराज ने किया. ये ईंट धर्म रक्षा संघ द्वारा बनवाई गई है, जो मंदिर की नींव में लगेगी. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Mar 5, 2020, 06:23 PM IST
    • करीब साढ़े 4 किलो वजन की इस रजत शिला में पौने 2 किलो चांदी का प्रयोग किया गया है
    • इसके अलावा ब्रज के प्रमुख तीर्थ और देवालयों की रज भी लगाई गई है

ट्रेंडिंग तस्वीरें

अयोध्याः रामलला के भव्य मंदिर में लगेगी ब्रज रज से बनी रजत शिला

अयोध्याः ब्रज रज की महिमा अपार. जिसे ज्ञानी और संतजन चंदन बताते हैं, वह ब्रजरज अयोध्या में बन रहे रामलला के भव्य मंदिर की नींव में स्थापित होगी. इस तरह अयोध्या धाम दो तीर्थधामों के मिलन का भी उदाहरण बनेगा. संत समाज ने इसे तीर्थसमागम बताते हुए कहा कि राम मंदिर की नींव में रज लगने से सारे ब्रज क्षेत्र की भावना उसके निर्माण में सम्मिलित होगी.

जानकारी के अनुसार अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर बनने वाले राम मंदिर में ब्रज की रजत शिला का प्रयोग किया जाएगा. जिसका श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास व युग पुरुष संत परमानंद महाराज ने किया. ये ईंट धर्म रक्षा संघ द्वारा बनवाई गई है, जो मंदिर की नींव में लगेगी. 

शिला में दो किलो चांदी
करीब साढ़े 4 किलो वजन की इस रजत शिला में पौने 2 किलो चांदी का प्रयोग किया गया है. इसके अलावा ब्रज के प्रमुख तीर्थ और देवालयों की रज भी लगाई गई है. युग पुरुष परमानंद महाराज ने कहा- जब समाज एकजुट होगा तभी सभी समस्याओं का समाधान होगा. देश शक्तिशाली और सुरक्षित रहेगा. इसलिए हमारी इच्छा है कि संतो के मार्गदर्शन में सारा समाज एक रहे.

महंत नृत्य गोपाल दास ने कहा- धर्म रक्षा संघ वृन्दावन के माध्यम से हमारे महापुरुषों के माध्यम से जो शिला सौंपी गई है वह सहर्ष अयोध्या जी में जहां राम लला का मन्दिर है, दिव्य भव्य मंदिर में यह शिला स्थापित होगी. 

रंगों में डूबे ब्रजमंडल में देखिए होली के कैसे-कैसे रंग

रथ पर विराजमान कर अयोध्या पहुंचेगी शिला
धर्म रक्षा संघ की ओर से बताया गया कि ब्रज के सभी संतों की ऐसी भावना थी की वृन्दावन की और ब्रज की रज यहां से अयोध्या तक जाए और श्रीराम जी का जो भव्य मंदिर बनने जा रहा है उसकी नींव में ब्रज रज लगे. इस रजत शिला को रथ में विराजमान कर पूरे ब्रज क्षेत्र में घुमाने के बाद अयोध्या ले जाया जाएगा.

इस दौरान रास्ते मे भी जगह-जगह पर पूजन होगा. ब्रजमंडल भगवान भगवान श्रीकृष्ण की जन्मभूमि है. शिला में सभी ब्रजवासियों की तरफ से सभी देवालयों की तरफ से रज स्थापित है. 

 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़