• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 83,004 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 1,51,767: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 64,426 जबकि अबतक 4,337 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • आरोग्य सेतु को ओपन-सोर्स किया गया, ऐप का Android संस्करण अब समीक्षा और सहभागिता के लिए उपलब्ध है
  • देश भर में 612 प्रयोगशालाओं में एक दिन में 1.1 लाख नमूनों का परीक्षण किया गया: आईसीएमआर
  • रेलवे ने 3274 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया; 44+ लाख यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया गया
  • वंदे भारत मिशन के तहत 34 देशों मे 173 उड़ानों और 3 जहाजों का परिचालन किया गया
  • सीपीडब्लूडी ने कोविड-19 के दौरान एयर कंडीशनिंग के उपयोग के बारे में दिशानिर्देश जारी किया
  • सीएसआईआर-आईआईआईएम और रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) मिलकर कोरोना वायरस के लिए आरटी-एलएएमपी आधारित जांच किट विकसित करेंगे
  • व्यावसायिक उद्यमों / एमएसएमई संस्थानों के लिए ईसीएलजी योजना अब परिचालन में है
  • सीबीआईसी ने 8 अप्रैल से 25 मई 2020 के बीच 11,052 करोड़ रुपये के 29,230 जीएसटी रिफंड के दावों का का भुगतान किया

तैयार हो जाइए, झुलसाएगी लू, सताएगी गर्मी

मौसम पूर्वानुमान के मुताबिक, इस बार भी मई-जून महीने में भीषण गर्मी पड़ने के आसार हैं. चिलचिलाती धूप के साथ पारा जल्द ही 45 डिग्री तक जा सकता है.

तैयार हो जाइए, झुलसाएगी लू, सताएगी गर्मी

नई दिल्लीः ग्लोबल वार्मिंग और मौसम चक्र में बदलाव के चलते वैश्विक स्तर पर तापमान में साल दर साल बढ़ोतरी हो रही है. हालांकि अभी सर्दी का मौसम जारी है, लेकिन मौसम का पूर्वानुमान मई-जून में चिंता बढ़ाने वाला है. मौसम पूर्वानुमान के मुताबिक, इस बार भी मई-जून महीने में भीषण गर्मी पड़ने के आसार हैं.

चिलचिलाती धूप के साथ पारा जल्द ही 45 डिग्री तक जा सकता है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, मार्च और अप्रैल में ही देश के अधिकांश हिस्सों मसलन सेंट्रल, वेस्टर्न और साउथ रीजन में तापमान में सामान्य से अधिक होगा. 

अप्रैल में सामान्य से 1.15 डिग्री सेल्सियस तापमान होगा अधिक
मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, मार्च-अप्रैल में ही सामान्य तापमान में इजाफा हो जाएगा. इसी के साथ अप्रैल में ही दिल्ली के साथ उत्तर प्रदेश, चंडीगढ़, राजस्थान, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र में सामान्य से 1.15 डिग्री सेल्सियस तापमान अधिक होगा. फरवरी में ही महाराष्ट्र और दक्षिणी राज्यों गर्मी में इजाफा हो गया है.

अगले दो महीनों के दौरान गर्मी बढ़ने की उम्मीद है. ऐसे में मार्च और अप्रैल के दौरान मासिक औसत तापमान देश के कई हिस्सों, खासकर मध्य भारत में सामान्य से 1-1.5 डिग्री सेल्सियस अधिक हो सकता है. 

2020 से 2064 तक बढ़ेगी लू
अप्रैल में ही उत्तर पूर्व और मध्य भारत में गर्मी में इजाफा होगा तापमान सामान्य से अधिक होगा. भीषण गर्मी का यह सिलसिला यही नहीं थमने वाला जल्द ही तापमान 45 डिग्री के आसपास तक जा सकता है. मौसम विभाग की रिपोर्ट यह भी कहती है कि गर्मी में इजाफा और लू की खराब स्थिति अल नीनो के विकसित होने से होगी.

रिपोर्ट से यह भी जाहिर होता है कि आने वाले समय में अल नीनो भारत में लू में इजाफा होने का जिम्मेदार बनेगा. इससे 2020 से 2064 तक गर्मी और लू में इजाफा होना जारी रहेगा. यह सब ग्लोबल वॉर्मिंग के कारण भी हो रहा है. रिपोर्ट यह भी कहती है कि वर्ष 2020 से 2064 के बीच में लू में जबरदस्त इजाफा होगा.

कोरोना वायरस से 'संक्रमित' भारत के बाजार! भारत में महंगी होंगी दवाईयां और पिचकारी?

10 फरवरी से बढ़ा है तापमान
गर्मी ने उत्तर के मैदानी इलाकों में दस्तक देने से पहले तटीय क्षेत्रों में असर दिखाना शुरू कर दिया है. हवाओं के बदले रुख के कारण दिल्ली में 10 फरवरी के बाद तापमान में तेजी से वृद्धि हुई है. बीते 10 दिनों में तापमान में 5 डिग्री से ज्यादा की वृद्धि हुई है. सर्दी ने दिल्ली में 120 साल का रिकॉर्ड तोड़ा है, जब न्यूनतम तापमान लगातार कई 15 दिनों से अधिक समय तक लगातार कम रहा. 

कोरोना वायरस से 'संक्रमित' भारत के बाजार! भारत में महंगी होंगी दवाईयां और पिचकारी?