पाकिस्तानी करतूत के सबूत, रऊफ अजहर के संपर्क में थे आतंकी

नगरोटा में मारे गए आतंकियों से बरामद मोबाइल से पाकिस्तानी हैंडलर के साथ चैट के सबूत मिले हैं. जानकारी के अनुसार मारे गए आतंकी मसूद अजहर भाई रऊफ अजहर के संपर्क में थे..

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Nov 21, 2020, 05:41 PM IST
  • नगरोटा आतंकियों से मिले ज़िंदा सबूत
  • मसूद अजहर का भाई दे रहा था निर्देश
पाकिस्तानी करतूत के सबूत, रऊफ अजहर के संपर्क में थे आतंकी

नई दिल्ली: नगरोटा हमले को लेकर सबूतों के हवाले से बहुत बड़ा खुलासा हुआ है. नगरोटा में मारे गए आतंकियों से बरामद मोबाइल से पाकिस्तानी हैंडलर के साथ चैट के सबूत मिले हैं. इन सबूतों के जरिए इस बात का खुलासा हुआ है कि मारे गए आतंकी मसूद अजहर भाई रऊफ अजहर के संपर्क में थे.

नगरोटा मामले में बड़ा खुलासा

जम्मू कश्मीर हाईवे पर नगरोटा टोल प्लाजा के पास मारे गए जैश के आतंकी लगातार पाकिस्तान में बैठे अपने हैंडलर के संपर्क में थे. इस बात का खुलासा आतंकियो से बरामद डिजिटल मोबाइल रेडियो सेट से हुआ है. पाकिस्तान में बने इस डिजिटल मोबाइल रेडियो से  जांच एजेंसियो को आतंकियो और उनके हैंडलर के बीच चैट के संदेश मिले हैं, जिसमे हैंडलर आतंकियो से पूछ रहा है कि "पहुंच गए, कोई परेशानी तो नहीं आई" ये सारे संदेश रात 2 बजे के आसपास रिकॉर्ड हुए है.

पाकिस्तानी हैंडलर- कहां पहुंचे?
आतंकी- 2 बजे
आतंकी- फिर बता देंगे
पाकिस्तानी हैंडलर- कहां पहुंचे क्या सूरत-ए-हाल है
पाकिस्तानी हैंडलर- कोई मुश्किल तो नहीं

बता दें, रऊफ अजहर.. मारे गए आतंकी जिसके संपर्क में थे, वो आतंक के आका मसूद अजहर का भाई है. मारे गए आतंकवादियो से बरामद मोबाइल फोन और उसमें पाक हैंडलर के चैट संदेश सूत्रों के हवाले से इसके खुलासा हुआ है. अजहर पाकिस्तान पिछले एक हफ्ते से जम्मू के कठुआ जिले के Opposite पाकिस्तान के शक्करगढ़ पोस्ट इलाके में देखा गया था.

खबर है कि आतंकियों का पाकिस्तानी हैंडलर रऊफ अजहर था जो कि मसूद अजहर का भाईं है.

पाकिस्तान को भारत ने दिया करारा जवाब

भारत ने दिल्ली में पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को सीमा पार आतंकवाद में नगरोटा आतंकवादी साजिश को लेकर इस्लामाबाद की भागीदारी के खिलाफ जोरदार विरोध जताया है. भारतीय विदेश मंत्रालय ने इसके लिए पाकिस्तानी हाई कमिश्नर को भी तलब किया है. पाकिस्तानी सीडीए-चार्ज डे मामलों को एक विरोध नोट सौंपा गया था, जिसमें नई दिल्ली ने जम्मू-कश्मीर में संघटक जैश ए मोहम्मद द्वारा किए गए आतंकवादी हमले की साजिश पर "मजबूत चिंता" व्यक्त की है

विरोध नोट में पाकिस्तान से कहा गया है कि वह "आतंकवादियों और अपने क्षेत्र से सक्रिय आतंकी समूहों का समर्थन करना बंद करे और आतंकवाद के बुनियादी ढांचे को खत्म करे" उन्हें यह भी बताया गया कि भारत आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा की रक्षा के लिए सभी आवश्यक उपाय करने में "दृढ़ और दृढ़" है.

इस सप्ताह की शुरुआत में, 4 जैश आतंकवादियों की हत्या के साथ एक बड़ा आतंकी हमला हुआ था. जम्मू और कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेश के नगरोटा इलाके में जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक टोल प्लाजा पर आतंकवादियों को बेअसर कर दिया गया. घटना में पाकिस्तान की संलिप्तता सामने आई है, खासकर फोन की आपूर्ति में.. मारे गए आतंकियों के पास से बरामद किए गए फोन का निर्माण एक पाकिस्तानी कंपनी ने किया है.

26/11 को दोहराने की थी साजिश!

गुरुवार को भारतीय प्रधान मंत्री ने गृह मंत्री अमित शाह, एनएसए अजीत डोभाल, विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला के साथ एक समीक्षा बैठक की. आतंकवादी 26/11 हमले की सालगिरह से पहले एक बड़े हमले की योजना बना रहे थे.

देश और दुनिया की हर एक खबर अलग नजरिए के साथ और लाइव टीवी होगा आपकी मुट्ठी में. डाउनलोड करिए ज़ी हिंदुस्तान ऐप, जो आपको हर हलचल से खबरदार रखेगा... नीचे के लिंक्स पर क्लिक करके डाउनलोड करें-

Android Link - https://play.google.com/store/apps/details?id=com.zeenews.hindustan&hl=en_IN

iOS (Apple) Link - https://apps.apple.com/mm/app/zee-hindustan/id1527717234

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़