जंगल की आग में घिरा सिडनी शहर, भयावह हो चुकी है आग

आगजनी के कारण न्यू साउथ वेल्स में दुकानें, सरकारी दफ्तर, स्कूल, बाजार सब बंद करवा दिए हैं, जबकि लोगों को सुरक्षित जगहों पर जाने के लिए कहा गया है. सिडनी और आसपास के इलाकों का तापमान 45 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा है. यहां धुंए के असर के कारण सिडनी से 190 किलोमीटर दूर सोहलहैवन तटीय शहर भी खाली करा लिया गया.

जंगल की आग में घिरा सिडनी शहर, भयावह हो चुकी है आग

नई दिल्लीः ऑस्ट्रेलिया में जंगलों में लगी आग ने सिडनी शहर को चारों तरफ से घेर लिया है. इस आग के चलते 680 घर जल कर ख़ाक हो चुके हैं जबकि, 6 की मौत हो गई है. सिडनी के चारों ओर 100 जगहों पर जंगल में आग लगी है. सिडनी के करीब 50 लाख लोगों की जिंदगी पर इसका असर पड़ा है. आग के कारण कनंगरा बॉयड नेशनल पार्क से जानवर सड़कों में आ गए हैं.

1700 से ज्यादा अग्निशमन कर्मी तैनात
आगजनी के कारण न्यू साउथ वेल्स में दुकानें, सरकारी दफ्तर, स्कूल, बाजार सब बंद करवा दिए हैं, जबकि लोगों को सुरक्षित जगहों पर जाने के लिए कहा गया है. सिडनी और आसपास के इलाकों का तापमान 45 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा है. यहां धुंए के असर के कारण सिडनी से 190 किलोमीटर दूर सोहलहैवन तटीय शहर भी खाली करा लिया गया.

बताया जा रहा है कि करीब 30 लाख एकड़ जंगल जलकर कोयले में बदल चुका है. सिडनी को आग से बचाने के लिए 1700 से ज्यादा अग्निशमन कर्मी तैनात किए गए हैं.

कई लोग लापता
आग अब भयंकर रूप धारण कर गयी है और यह सिडनी शहर के चारों और फ़ैल गई है. अब तक की रिपोर्ट्स के मुताबिक इस आग में कमसे कम 700 घर जल कर खाक हो चुके हैं और छह लोगों की जान चली गई है. अग्निशमन विभाग के अनुसार, सिडनी के नजदीक हॉक्सबरी, हंडर और सेंट्रल कोस्ट इलाके में आग ने तबाही मचा रखी है. आग ने इतना भयानक रूप ले लिया है कि अब उस पर काबू पाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। जंगलों में आग लगने की घटनाएं पिछले महीने शुरू हुई थीं. इनमें अब तक 6 लोगों की मौत हो चुकी है और करीब 700 घर जलकर राख हो चुके हैं. यहीं नहीं कई लोग लापता भी बताए जा रहे हैं. 

300 जानवरों को बाहर निकाला 
ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के हवाले से एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि आग बुझाने के काम में सेना लगी हुई है लेकिन उसे अपेक्षित सफलता हासिल नहीं हो रही है. एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, तेज चल रही हवाओं और 45 डिग्री सेल्सियस के बढ़ते तापमान ने आग को और भड़काने का काम किया है. जिन क्षेत्रों में यह आग लगी है, उनमें से कई को सूखा प्रभावित क्षेत्र माना जाता है. आग लगने की इस घटना में सैकड़ों पशुओं के मारे जाने की भी आशंका है. 'वॉकअबाउट वन्यजीव पार्क' ने कहा कि यहां से लगभग 300 जानवरों को बाहर निकाला गया है. 

नीतीश-तेजस्वी में पोस्टर वार, भाजपा ने किया दरकिनार