close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Chandra Grahan 2019: आज पड़ रहा है साल का पहला चंद्र ग्रहण, जानें क्या होगा इसका प्रभाव

आज पड़ने वाले चंद्र ग्रहण का प्रभाव भारत के मौसम में देखने को मिलेगा. जिसके चलते कई जगह पर बारिश और कई जगहों पर ओलावृष्टि हो सकती है.

Chandra Grahan 2019: आज पड़ रहा है साल का पहला चंद्र ग्रहण, जानें क्या होगा इसका प्रभाव
फाइल फोटो

नई दिल्लीः आज रात साल 2019 का पहले चंद्रग्रहण लगेगा. जो कि सुबह 9 बजकर 4 मिनट से दोपहर के 12 बजकर 21 मिनट तक रहेगा. इस दौरान भारत में सुबह होने के कारण यह भारत में नहीं देखा जा सकेगा. जिसके चलते भारत में इसका असर भी कम ही दिखाई देगा. बता दें इसका संयोग दुर्लभ है और कई सालों के अंतराल पर यह घटनाक्रम देखने को मिलेगा. इस घटनाक्रम की एक विशेषता यह भी है कि चन्द्रग्रहण के बावजूद चांद पूरी तरह काला दिखाई देने के बजाय लाल रंग का दिखाई पड़ेगा, जिसे 'Red Blood Moon' नाम दिया गया है. यह चंद्रग्रहण उत्तरी और दक्षिणी अमेरिका, प्रशांत महासागर, यूरोप और अफ्रीका में दिखाई देगा. बता दें ज्योतिष में कहा गया है कि जब चंद्रमा ग्रहण के कारण लाल रंग का दिखाई देता है तो यह राजाओं और क्षत्रियों के लिए काफी कष्टकारी होता है.

Lunar Eclipse 2019: जाने क्या है चन्द्र ग्रहण और कैसे बनता है Super Blood Moon

इन बातों का रखें खास ख्याल
ज्योतिष शास्त्र में ग्रहण काल को शुभ नहीं माना जाता है, यही कारण है कि इस दौरान किसी भी तरह के शुभ कार्यों की मनाही होती है. ज्योतिषाचार्यों की मानें तो ग्रहण काल के प्रभाव के दौरान होने वाले कार्यों में किसी न किसी तरह की बाधा या अशुभ प्रभाव देखने को मिल सकते हैं. इसलिए इस दौरान कोई भी शुभ काम जैसे- शादी, जनेऊ, मुंडन नहीं करना चाहिए. बता दें आज पड़ने वाले चंद्र ग्रहण का प्रभाव भारत के मौसम में देखने को मिलेगा. जिसके चलते कई जगह पर बारिश और कई जगहों पर ओलावृष्टि हो सकती है.

Eclipse 2019: साल के पहले महीने में लगने वाला है सूर्य और चंद्र ग्रहण, जानिए क्या होगा असर

क्या करें और क्या नहीं
ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक इस ग्रहण काल के दौरान लोगों को वैदिक मंत्रों का जाप करना चाहिए, लेकिन पूजा-पाठ नहीं. भगवान का मन में ही स्मरण करना चाहिए और जहां देवी-देवताओं की प्रतिमा स्थापित हो उस स्थान में पर्दा लगा देना चाहिए. क्योंकि ग्रहण के समय भगवान की मूर्ति को स्पर्श करना निषिद्ध माना गया है. पवित्र नदियों में स्नान किया जाता है. मंत्र जाप किया जाता है और इस समय में मंत्र सिद्धि का भी महत्व है. ग्रहण के समय  खाना-पीना, सोना, नाखून काटना, भोजन बनाना, तेल लगाना आदि कार्य भी इस समय वर्जित हैं. ग्रहण काल में बच्चे, बूढ़े, गर्भावस्था स्त्री के भोजन लेने में कोई परहेज नहीं हैं.