मोदी सरकार के इस ऐलान की वजह से जन धन खातों में अब तक 90 हजार करोड़ जमा

इस योजना के तहत दुर्घटना बीमा कवर को दोगुना करके 2 लाख रुपये कर दिया जिससे योजना और आकर्षक हो गई है.

मोदी सरकार के इस ऐलान की वजह से जन धन खातों में अब तक 90 हजार करोड़ जमा
28 अगस्त 2014 को प्रधानमंत्री जन धन योजना की शुरुआत हुई थी. (फाइल)

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री जन धन खातों में कुल जमा जल्द ही 90,000 करोड़ रुपये के स्तर को पार जा सकती है. सरकार ने वित्तीय समावेश वाली इस योजना के तहत दुर्घटना बीमा कवर को दोगुना करके 2 लाख रुपये कर दिया जिससे योजना और आकर्षक हो गई है. वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, मार्च 2017 से जन धन खातों में जमा में तेजी आई है. इन खातों में 30 जनवरी 2019 तक कुल जमा बढ़कर 89,257.57 करोड़ रुपये पर पहुंच गई. जमा में वृद्धि जारी है. 23 जनवरी को कुल जमा 88,566.92 करोड़ रुपये थी. 

सभी परिवारों को बैंकिंग सेवाओं से जोड़ने के उद्देश्य से केंद्र ने 28 अगस्त 2014 को प्रधानमंत्री जन धन योजना (पीएमजेडीवाई) शुरुआत की थी. योजना की सफलता से उत्साहित सरकार ने 28 अगस्त 2018 के बाद खोले गए नए खातों के लिए दुर्घटना बीमा कवर को एक लाख रुपये से बढ़ाकर दो लाख रुपये कर दिया गया. ओवरड्राफ्ट की सीमा को दोगुना करके 10,000 रुपये कर दिया गया है. 

अगले साल तक बंद हो सकते हैं भारत के 50% ATM, इस वजह से आ सकता है संकट

नए आंकड़ों के मुताबिक, प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत 34.14 करोड़ खाते खोले गए हैं. इन खातों में औसत जमा बढ़कर 2,615 रुपये हो गई, जो कि 25 मार्च 2015 को 1,065 रुपये पर था. इन खातों में 53 प्रतिशत खाते महिलाओं के हैं, जिसमें से 59 प्रतिशत खाते ग्रामीण और अर्ध-शहरी क्षेत्र से है. आंकड़ों के मुताबिक, 27.26 करोड़ खाताधारकों को दुर्घटना बीमा कवर के साथ रुपे डेबिट कार्ड जारी किए गए हैं. 

(इनपुट-भाषा)