भारत से परेशान डोनाल्ड ट्रंप का छलका दर्द, कहा- हमें लगातार नुकसान हो रहा

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी प्रोडक्ट पर भारत की ओर से लगाए गए 'बड़े शुल्क' की आलोचना की है. ट्रंप ने कहा कि भारत ने अमेरिका के कागज के उत्पादों और प्रसिद्ध हार्ले डेविडसन मोटरसाइकिल पर काफी ऊंचा शुल्क लगाया हुआ है.

भारत से परेशान डोनाल्ड ट्रंप का छलका दर्द, कहा- हमें लगातार नुकसान हो रहा

वाशिंगटन : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी प्रोडक्ट पर भारत की ओर से लगाए गए 'बड़े शुल्क' की आलोचना की है. ट्रंप ने कहा कि भारत ने अमेरिका के कागज के उत्पादों और प्रसिद्ध हार्ले डेविडसन मोटरसाइकिल पर काफी ऊंचा शुल्क लगाया हुआ है. उन्होंने कहा कि ऊंचे शुल्कों की वजह से अमेरिका को भारत, चीन और जापान जैसे देशों से अरबों डॉलर का नुकसान हो रहा है. ट्रंप ने विस्कोंसिन के ग्रीन बे शहर में रिपब्लिकन पार्टी की एक राजनीतिक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि सभी देश पिछले कई साल से अमेरिका को नुकसान पहुंचा रहे हैं.

अमेरिकी प्रोडक्ट पर कई साल से ऊंचा शुल्क लग रहा
अमेरिकी राष्ट्रपति बार-बार भारत को 'शुल्कों का राजा' कहते रहे हैं. उनका कहना है कि अमेरिकी उत्पादों पर भारत कई वर्षों से काफी ऊंचा शुल्क लगा रहा है. अपने समर्थकों की नारेबाजी के बीच ट्रंप ने कहा कि कई देशों से चीन, जापान और भारत जैसे देशों की वजह से अमेरिका को अरबों डॉलर का नुकसान हो रहा है. 'आप किसी भी देश का नाम लें, हमें नुकसान हुआ है, लेकिन आगे हम नुकसान नहीं सहेंगे.' उन्होंने कहा कि विदेशी कागज के उत्पादों पर अमेरिका से काफी ऊंचा शुल्क वूसला जा रहा है.

कुख्यात बाजार की सूची में टैंक रोड को शामिल किया
इससे पहले अमेरिका ने दिल्ली के टैंक रोड को जाली सामान बेचने वाला दुनिया का सबसे कुख्यात बाजार करार दिया था. अमेरिका ने भारत से कहा था कि वह इस बाजार के बारे में कार्रवाई के लिए समुचित कदम उठाए. अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि (यूएसटीआर) की कुख्यात बाजारों की 2018 की सूची में भी टैंक रोड शामिल था. अंशधारकों ने इस बात की पुष्टि की कि यह बाजार अभी भी जाली सामान की बिक्री कर रहा है. इनमें परिधान और जूते-चप्पल आदि शामिल हैं.

रिपोर्ट में कहा गया कि टैंक रोड के थोक कारोबारी जाली सामानों की आपूर्ति अन्य भारतीय बाजारों मसलन गफ्फार मार्केट और अजमल खान रोड को भी करते हैं. रिपोर्ट के अनुसार इन बाजारों में थोक कारोबारी बिना किसी डर के कारोबार करते हैं और उन्होंने पिछले कुछ साल के दौरान अपने कारोबार को काफी फैला लिया है.