पीएम मोदी कल करेंगे इस योजना की शुरुआत, 10 करोड़ मजदूरों को मिलेगा फायदा

इस योजना के तहत असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को हर महीने 3000 रुपयें पेंशन दी जाएगी.

पीएम मोदी कल करेंगे इस योजना की शुरुआत, 10 करोड़ मजदूरों को मिलेगा फायदा
15 फरवरी से इस स्कीम के लिए रजिस्ट्रेशन जारी है. (फाइल)

अहमदाबाद: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात के दो दिवसीय यात्रा पर हैं. मंगलवार को पीएम असंगठित क्षेत्र के कामगारों के लिए पेंशन योजना की शुरुआत करेंगे. इस योजना की औपचारिक शुरुआत अहमदाबाद में की जाएगी. 1 फरवरी को अंतरिम बजट पेश करते हुए वित्तमंत्री पीयूष गोयल ने असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के लिए इस योजना का ऐलान किया था, जिसके तहत उन्हें हर महीने 3000 रुपये पेंशन के रूप में दिए जाएंगे. इस योजना को लेकर अधिसूचना पहले ही जारी हो चुकी है.

अधिसूचना जारी होने के बाद 15 फरवरी से इस स्कीम के लिए रजिस्ट्रेशन भी शुरू कर दिया गया था. योजना को अंतिम रूप देने की जिम्मेदारी LIC (लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन) को मिली है. योजना के तहत रजिस्ट्रेशन के लिए LIC के बड़े नेटवर्क का इस्तेमाल किया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक, स्वघोषणा के आधार पर इस योजना के लाभार्थियों की सूची तैयार की जाएगी.

मोदी सरकार से लेना चाहते हैं 3 हजार रुपये पेंशन, यहां जानिए योजना की शर्तें

हालांकि पेंशन पाने के लिए सरकार की कुछ शर्ते हैं. शर्तों के मुताबिक, लाभार्थी को कुछ रुपये हर महीने प्रीमियम के तौर पर जमा करना होगा. योजना का लाभ 18 साल से 40 साल के कामगारों को ही मिलेगा. अगर कोई लाभार्थी 18 साल की उम्र में इस स्कीम में हिस्सा लेता है तो उसे 55 रुपये प्रीमियम के तौर पर देना होगा. 29 साल की उम्र में स्कीम का हिस्सा बनने पर 100 रुपये प्रीमियम देना होगा. उम्मीद की जा रही है कि इस योजना का लाभ असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले करीब 10 करोड़ लोगों को मिलेगा.

गाजियाबाद और दिल्ली-NCR के लोगों को पीएम देंगे सौगात, हिंडन एयरपोर्ट अप्रैल से शुरू

बजट भाषण में पीयूष गोयल ने कहा था कि सरकार की तरफ से असंगठित क्षेत्र के 10 करोड़ कर्मचारियों को रिटायरमेंट के बाद न्यूनतम पेंशन की गारंटी दी जाएगी. सरकार की तरफ से शुरू की गई इस योजना का फायदा ऐसे मजदूरों को मिलेगा जिनकी मासिक आमदनी 15 हजार रुपये से कम है. सरकार के इस कदम का फायदा घरों में काम करने वाली मेड, ड्राइवरों, प्लबंर, बिजली का काम करने वाले कामगारों को मिलेगा. यानी, ऐसे लोग जो मासिक आधार पर 15 हजार से कम कमा पाते हैं, उनको इस दायरे में लाया जाएगा.