पीयूष गोयल का ऐलान, Train-18 को 'वंदे भारत एक्सप्रेस' के नाम से जाना जाएगा

सबकुछ ठीक रहा तो 7 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस रेलगाड़ी को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से झंडी दिखा कर रवाना करेंगे.

पीयूष गोयल का ऐलान, Train-18 को 'वंदे भारत एक्सप्रेस' के नाम से जाना जाएगा
इस ट्रेन का निर्माण अपने देश में किया गया है. (फाइल)

नई दिल्ली: देश की पहली सेमी बुलेट, Train-18 को लेकर बड़ी खबर आ रही है. रेलमंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि इस ट्रेन को 'वंदे भारत एक्सप्रेस' के नाम से जाना जाएगा. इस ड्राइवरलेस ट्रेन का निर्माण मेक इन इंडिया के तहत अपने देश में किया गया है. देश के इंजीनियरों ने मात्र 18 महीने में इस ट्रेन को तैयार किया. बहुत जल्द यह ट्रेन दिल्ली से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के बीच दौड़ने वाली है. पीयूष गोयल ने कहा कि इस ट्रेन ने साबित कर दिया है कि मेक इन इंडिया के तहत वर्ल्ड क्लास ट्रेन बनाई जा सकती है.

रेलवे इस गाड़ी को 07 फरवरी को चलाने की तैयारी कर रहा है. सूत्रों के अनुसार सबकुछ ठीक रहा तो 7 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस रेलगाड़ी को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से झंडी दिखा कर रवाना करेंगे. गुरुवार को हुई वरिष्ठ रेल अधिकारियों की एक बैठक में 7 फरवरी को Train 18 को चलाने को ले कर तैयारियां पूरी करने को कहा गया है.

 

 

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नम्बर एक पर मार्बल लगाने का काम चल रहा है. इस काम को जल्द से जल्द पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं. इस ट्रेन को चलाने के लिए कमिश्नर रेलवे सेफ्टी ने मामूली सुधार करने के लिए कहा था. इन सुधारों को पूरा करने का काम किया जा रहा है.

Train 18 को इस दिन हरी झंडी दिखाएंगे पीएम मोदी, ये होगा किराया

Train 18 में यात्रा करने के लिए रेल यात्रियों को अधिक पैसे खर्च करने होंगे. इस गाड़ी को शताब्दी रेलगाड़ियों की जगह पर चलाया जाना है. लेकिन इस गाड़ी का किराया शताब्दी रेलगाड़ियों से कीं अधिक होगा. इस गाड़ी का किराया गतिमान रेलगाड़ी के किराए के करीब हो सकता है. शताब्दी रेलगाड़ियों की तुलना में गतिमान एक्सप्रेस का किराया कहीं अधिक है.

Train-18 पर फिदा हुई दुनिया, सिंगापुर और इंडोनेशिया जैसे देशों ने दिखाई दिलचस्पी

उदाहरण के तौर गतिमान एक्सप्रेस से दिल्ली से आगरा तक की यात्रा के लिए यात्रियों को चेयर कार श्रेणी में लगभग 750 रुपये और एक्जीक्यूटिव क्लास की श्रेणी में 1495 रुपये किराया देना होता है. वहीं भोपाल शताब्दी से यदि आप दिल्ली से आगरा तक की यात्रा करते हैं तो आपको चेयर कार श्रेणी के लिए 675 रुपये व एक्जीक्यूटिव क्लास के लिए 1010 रुपये किराया देना होता है.