BCCI ने विश्व कप के बाद मंगाए इन पदों पर आवेदन, क्या जाएगी शास्त्री-बांगर की कुर्सी!
trendingNow1552508

BCCI ने विश्व कप के बाद मंगाए इन पदों पर आवेदन, क्या जाएगी शास्त्री-बांगर की कुर्सी!

विश्व कप खत्म होने के बाद टीम इंडिया के हेड कोच सहित कई पद खाली हो रहे हैं जिसके लिए बीसीसीआई ने आवेदन मंगाए हैं. 

रवि शास्त्री और संजय बांगर का कार्यकाल मिला जुला रहा.  (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: टीम इंडिया (Team India) का इंग्लैंड में आईसीसी विश्व कप-2019 (ICC World Cup 2019) अभियान सेमीफाइल में हार से खत्म हो गया है. इसी के साथ टीम के कई स्टाफ सदस्य सहित कोच रवि शास्त्री का भी कार्यकाल खत्म हो रहा है जिससे कई पद अब खाली होने वालेहैं. वैसे तो पिछले चार साल में टीम इंडिया के नाम अनेक उपलब्धियां हैं लेकिन टीम आईसीसी के बड़े टूर्नामेंट में खिताब हासिल करने में कामयाबी हासिल नहीं कर सकी. अब भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने  टीम इंडिया प्रबंधन में बदलाव की औपचारिक प्रक्रिया शुरू कर दी है . 

जो पद विश्व कप के बाद खाली हो रहे हैं, उनमें टीम के प्रमुख कोच का पद शामिल है. इस पद पर अभी रवि शास्त्री हैं जिन्हें विश्व कप के बाद 45 दिन का एक्सटेंशन मिला है. इसके अलावा बैटिंग कोच संजय बांगर , बॉलिंग कोच भरत अरुण का पद, फील्डिंग कोच आर श्रीधर के पद के लिए भी आवेदन मंगाए गए हैं. इनको  भी एक्सटेंशन मिला है. इनके अलावा, फिजियोथेरेपिस्ट, स्ट्रेंथ एंड कंडीशनिंग कोच और एडमिनिस्ट्रेटिव मैनेजर के पदों के लिए बीसीसीआई ने आवेदन मांगे हैं. 

यह भी पढ़ें: सचिन तेंदुलकर ने चुनी विश्व कप की अपनी ड्रीम टीम, इस भारतीय दिग्गज को नहीं मिली जगह

इस वजह से रवि शास्त्री का पद अभी खाली होने जा रहा है और उनका कार्यकाल और आगे बढ़ाने संभावना अब कम ही है. इसका मतलब है कि कोच के चयन की नए सिरे से प्रक्रिया आरम्भ होगी. अब अगर शास्त्री अपना कार्यकाल आगे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्हें फिर से अपने पद के लिए आवेदन करना होगा. शास्त्री के अलावा बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ और फील्डिंग कोच आर श्रीधर और गेंदबाजी कोच भरत अरुण भी दोबारा आवेदन कर सकते हैं. 

टीम इंडिया का इस दौरान टेस्ट रिकॉर्ड सबसे शानदार रहा है. उसने क्रिकेट इतिहास में पहली बार ऑस्ट्रेलिया में कोई टेस्ट सीरीज जीती है. इसके अलावा वहां वनडे सीरीज भी जीती है. शास्त्री के मार्ग निर्देशन में विराट कोहली ने दक्षिण अफ्रीका में वनडे सीरीज में जीत का रिकॉर्ड बनाया था. इस दौरान टीम की गेंदबाजी स्तर (खासकर तेज गेंदबाजी) में उल्लेखनीय सुधार हुआ है. जसप्रीत बुमराह इस दौर की सबसे बेहतरीन खोज हैं. वहीं टीम में बल्लेबाजी में भी कई रिकॉर्ड बने हैं, लेकिन नंबर चार की समस्या न सुलझ पाना बांगर के खिलाफ जा सकती है, लेकिन इसके लिए उन्हें कितना दोषी माना जाएगा और वह उनके बने रहने ( या न रहने) में कितना निर्णायक होगा यह बाद में ही पता चलेगा. 

यह भी पढ़ें: World Cup Final: इंग्लैंड को ओवरथ्रो पर 6 रन देना गलत, देना चाहिए थे इतने रन- टॉफेल 

उम्मीद की जा सकती है कि टीम इंडिया को अब एक नया फील्डिंग कोच मिल जाए. अभी टीम इंडिया बढि़या फिल्डिंग तो कर ही रही है, लेकिन कई मौकों पर टीम ने साबित किया है कि उसमें बेहतरी की बहुत ज्यादा गुंजाइश है. टीम को ट्रेनर शंकर बसु और फीजियो पैट्रिक फरहार्ट के विकल्प की भी तलाश होगी ये दोनों पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं. बीसीसीआई को अब 3 अगस्त से शुरू हो रहे टीम इंडिया के वेस्टइंडीज दौरे से पहले नया ट्रेनर और फिजियो नियुक्त करना होगा.

Trending news