close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गांगुली ने टीम इंडिया को दिलाई चैंपियंस ट्रॉफी की याद, कहा - पाकिस्तान को हल्के में मत लेना

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने भारतीय टीम को चेताते हुए कहा है कि भले ही विश्वकप में हमारा प्रदर्शन पाकिस्तान के खिलाफ बहुत बढ़िया है, फिर भी हमें उसे हल्के में नहीं लेना चाहिए. 

गांगुली ने टीम इंडिया को दिलाई चैंपियंस ट्रॉफी की याद, कहा - पाकिस्तान को हल्के में मत लेना
पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने भी गांगुली के विचारों पर सहमति जताई.

मैनचेस्टर: पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने भारतीय टीम को चेताते हुए कहा है कि भले ही विश्वकप में हमारा प्रदर्शन पाकिस्तान के खिलाफ बहुत बढ़िया है, फिर भी हमें उसे हल्के में नहीं लेना चाहिए. गांगुली ने भारतीय टीम को 2017 के चैंपियन ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले की याद दिलाई जिसमें भारतीय टीम को पाकिस्तान के हाथों हार का मुंह देखना पड़ा था. 

गांगुली ने कहा कि 2017 के चैंपियन ट्रॉफी के फाइनल में भारत ने पाकिस्तान को शायद हल्के में लिया, नतीजतन टीम को हार का सामना करना पड़ा. बंगाल टाइगर के नाम से मशहूर पूर्व कप्तान ने कहा, "भारत को बहुत सावधान रहना होगा. यह मत सोचिए कि विश्वकप में हमारा प्रदर्शन पाकिस्तान के खिलाफ बेहतर होता है. कल क्रिकेट का महामुकाबला होने वाला है."  

पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने भी गांगुली के विचारों पर सहमति जताई. तेंदुलकर ने कहा, "पाकिस्तान ने हमेशा चौंकाया है, इसलिए भारत को उसे हल्के में नहीं लेना चाहिए. भारतीय टीम जो भी कदम उठाए, वह अच्छी तरह से सोच समझकर, रणनीति बनाकर उठाए." 

गांगुली और तेंदुलकर ने भी स्वीकार किया कि भारत-पाकिस्तन के बीच मैच, 'क्रिकेट से कहीं ज्यादा' होता है. गांगुली ने कहा, "लोग मैच को लेकर रोमांचित हैं. इसलिए उस नजरिये से मैनचेस्टर में कल बहुत बड़ा मुकाबला होने जा रहा है. मैंने कप्तान के रूप में 2003 में पाकिस्तान का पहली बार दौरा किया था. उससे पहले हम कभी वहां जीते नहीं थे लेकिन हमने टेस्ट और वनडे दोनों सीरीज में जीत हासिल की." 

तेंदुलकर ने भी 2003 के पाकिस्तान दौरे को याद किया. उन्होंने कहा, "लगभग एक साल बाद दोनों टीमों के बीच मैच हो रहा था. लोग मैच के बारे में खूब बात कर रहे थे. लोगों ने कहा, चाहे जो भी हो, मैच तो भारत को ही जीतना चाहिए. मैंने कहा कि ऐसा नहीं सोचना चाहिए क्योंकि खिलाड़ी दूसरे नजरिये से सोचते हैं." 

(इनपुट भाषा से)