World Cup 2019: भारत-पाक 20 साल बाद फिर लौटे ओल्ड ट्रैफर्ड, तब यह खिलाड़ी बना था हीरो
trendingNow1540516

World Cup 2019: भारत-पाक 20 साल बाद फिर लौटे ओल्ड ट्रैफर्ड, तब यह खिलाड़ी बना था हीरो

भारत और पाकिस्तान की टीमें 1999 में मैनचेस्टर में भिड़ी थीं. तब अजहर भारत और वसीम अकरम पाकिस्तान के कप्तान थे. 

आईसीसी विश्व कप के एक कार्यक्रम में भारत के कप्तान विराट कोहली और पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद. (फोटो: Reuters)

नई दिल्ली: लंबे इंतजार के बाद एक बार फिर वह वक्त आ गया है, जिसका दुनिया के ज्यादातर क्रिकेटप्रेमियों को इंतजार रहता है. जी हां, अब से चंद घंटों बाद भारत और पाकिस्तान की टीमें आईसीसी विश्व कप (ICC World Cup 2019) में भिड़ने जा रही हैं. इत्तफाक से यह मुकाबला उसी मैदान पर होने जा रहा है, जहां 20 साल पहले विश्व कप के ही मुकाबले में दोनों टीमें भिड़ी थीं. तब वह मुकाबला भारत ने जीता था, लेकिन यह आसान नहीं था. पाकिस्तानी गेंदबाजों ने भारतीय बल्लेबाजों को खूब परेशान किया था. आइए जानें उस मैच का पूरा हाल...

भारत और पाकिस्तान की टीमें 1999 के विश्व कप में आठ जून को मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर भिड़ी थीं. यह मुकाबला 8 जून को खेला गया था. भारतीय कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने टॉस जीता और पहले बैटिंग का फैसला लिया. लेकिन पाकिस्तान की मजबूत बॉलिंग लाइनअप के सामने भारतीय बल्लेबाज संघर्ष करते नजर आए. बहरहाल, राहुल द्रविड़ (61), अजहर (59) और सचिन तेंदुलकर (45) की पारियों की बदौलत भारतीय टीम 50 ओवर में छह विकेट पर 227 का स्कोर बनाने में कामयाब रही. 

भारत का यह स्कोर बड़ा नहीं था और अब दारोमदार गेंदबाजों पर आ गया था. 227 के स्कोर को बचाने के लिए दमदार गेंदबाजी की जरूरत थी. जब बात पाकिस्तान से मुकाबले की हो तो वेंकटेश प्रसाद (5/27) कैसे पीछे रहते. वेंकटेश प्रसाद (Venkatesh Prasad) ने 9.3 ओवर के स्पेल में पांच विकेट झटके. जवागल श्रीनाथ (3/37) और अनिल कुंबले (2/43) ने भी उनका बखूबी साथ दिया. इन तीनों ने पाकिस्तान को सिर्फ 180 के स्कोर पर ढेर कर दिया. इस तरह भारत ने यह मैच 47 रन से जीता. वेंकटेश प्रसाद मैन ऑफ द मैच चुने गए. 

बता दें कि भारत और पाकिस्तान अब तक विश्व कप में छह बार भिड़ चुके हैं. भारत ने हर बार पाकिस्तान को हराया है. विराट कोहली की टीम इस टूर्नामेंट में भी बेहतरीन प्रदर्शन कर रही है. इस कारण उसकी जीत की संभावना जताई जा रही है. पाकिस्तान के लिए एक ही बात सकारात्मक है कि उसने दो साल पहले भारत को इंग्लैंड में ही हराया था. वह चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल की उसी जीत से अपना मनोबल ऊंचा करना चाहेगा.  

Trending news