close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारत के वो 10 क्रिकेटर, जो ICC World Cup खेलने तो गए, पर कभी खेले नहीं...

44 साल के विश्व कप इतिहास में अब तक भारत के ऐसे 10 खिलाड़ी हुए हैं, जिन्हें विश्व कप की टीम में चुना तो गया, लेकिन वे कभी खेल नहीं पाए.

भारत के वो 10 क्रिकेटर, जो ICC World Cup खेलने तो गए, पर कभी खेले नहीं...
इन खिलाड़ियों को विश्व कप की टीम में चुना तो गया, लेकिन वे कभी विश्व कप खेल नहीं पाए.

नई दिल्ली: आईसीसी वर्ल्ड कप में खेलना किसी भी क्रिकेटर का सपना होता है. जाहिर है जब उसका विश्व कप की टीम में चयन होता है तो वह उसकी जिंदगी का सबसे यादगार दिन होता है. लेकिन कई बार कुछ क्रिकेटरों की किस्मत आखिरी वक्त पर साथ छोड़ जाती है. यानी, कई खिलाड़ियों के साथ ऐसा होता है कि वे विश्व कप की टीम में चुने तो जाते हैं, लेकिन उन्हें इस महामुकाबले में खेलने का मौका नहीं मिलता. भारतीय क्रिकेटरों की बात करें तो 44 साल के विश्व कप इतिहास में अब तक ऐसे 10 खिलाड़ी हुए हैं, जिन्हें विश्व कप की टीम में चुना तो गया, लेकिन वे कभी विश्व कप खेल नहीं पाए.

आईसीसी क्रिकेट विश्व कप पहली बार 1975 में खेला गया. भारत ने इस विश्व कप के लिए अपनी टीम में 12 खिलाड़ियों को शामिल किया. वेंकटराघवन की कप्तानी वाली टीम के सभी 12 खिलाड़ियों को खेलने का मौका मिला. लेकिन 1979 में ऐसा नहीं हुआ. इस बार भारतीय टीम में 13 खिलाड़ी शामिल थे. इस बार भी भारत के 12 खिलाड़ियों को ही विश्व कप में खेलने का मौका मिला. टीम में शामिल भरत रेड्डी विश्व कप में खेले बिना ही स्वदेश लौट आए. इस तरह वे देश के ऐसे पहले क्रिकेटर बने, जो विश्व कप खेलने तो गए थे, लेकिन उनके रिकॉर्ड बुक में विश्व कप का एक भी मैच शामिल नहीं है.

और सुनील वाल्सन को कौन नहीं जानता...
साल 1983 भारतीय क्रिकेट के लिए टर्निंग प्वाइंट माना जाता है. भारत ने इस साल कपिल देव की कप्तानी में विश्व कप जीता. इस टीम में 14 खिलाड़ी शामिल थे. लेकिन खेलने का मौका सिर्फ 13 खिलाड़ियों को ही मिला. इस बार सुनील वाल्सन पूरे विश्व कप के दौरान भारतीय बेंच की शोभा बढ़ाते रहे. यानी, उन्हें खेलने का मौका नहीं मिला. संयोग से सुनील वाल्सन बाद में भी कभी नहीं खेल पाए. वे भारत के ऐसे क्रिकेटर हैं, जो कभी विश्व कप की टीम में शामिल थे. इसके बावजूद उन्होंने एक भी इंटरनेशनल मैच नहीं खेला है.

अमय खुरासिया को भी मत भूलिए
1987, 1992 और 1996 में भारतीय क्रिकेट टीम के हर सदस्य को विश्व कप में खेलने का मौका भी मिला. लेकिन 1999 में एक बार फिर अमय खुरासिया विश्व कप की टीम का हिस्सा रहकर भी बिना खेले ही लौट आए. इसके बाद 2003 के विश्व कप में संजय बांगर और पार्थिव पटेल विश्व कप से खेले बिना लौटे.

कार्तिक की किस्मत
इरफान पठान और दिनेश कार्तिक वह खिलाड़ी हैं जिन्हें 2007 के वर्ल्ड कप में खेलने का अवसर नहीं मिल पाया था. इरफान पठान को दोबारा कभी विश्व कप खेलने का मौका नहीं मिला. लेकिन दिनेश कार्तिक अपने ख्वाब को साकार करने में डटे रहे. उन्होंने 12 साल बाद एक बार फिर वर्ल्ड कप की टीम में जगह बना ली है. अब देखना है कि कप्तान विराट कोहली की प्लेइंग इलेवन में उन्हें जगह मिलती है या नहीं. 

2015 का वर्ल्ड कप बिना खेले लौटे ये तीनों
इसके अलावा 2015 वर्ल्ड कप में तीन खिलाड़ी- अक्षर पटेल, अंबाती रायडू और स्टुअर्ट बिन्नी टीम में चुने जाने के बाद भी खेल में शामिल नहीं हो पाए थे. हालांकि, इस बार इन तीनों को वर्ल्ड कप टीम में जगह ही नहीं मिली. टीम चयन के दौरान अंबाती रायडू को चुने जाने की संभावना जताई जा रही थी, लेकिन उनकी जगह विजय शंकर को मौका दिया गया.