Breaking News
  • दिल्‍ली हिंसा पर कांग्रेस ने राष्‍ट्रपति को ज्ञापन सौंपा
  • सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह समेत कई नेता राष्‍ट्रपति से मिले
  • अखिलेश यादव सीतापुर के लिए निकले. जेल में बंद सपा नेता आजम खां व उनके परिवार से करेंगे मुलाकात

जब कादर खान की स्‍टेज परफॉर्मेंस से बेहद खुश हो गए थे दिलीप कुमार, दिया था यह 'बड़ा ऑफर'

कादर खान का जन्‍म साल 1937 में अफगानिस्तान के काबुल में हुआ था. उन्‍होंने बॉम्‍बे यूनिवर्सिटी से संबद्ध इस्‍माइल यूसुफ कॉलेज से स्‍नातक की.

जब कादर खान की स्‍टेज परफॉर्मेंस से बेहद खुश हो गए थे दिलीप कुमार, दिया था यह 'बड़ा ऑफर'
फोटो साभार : bombaybasanti Twitter Page

नई दिल्‍ली : जाने माने अभिनेता एवं लेखक कादर खान का कनाडा के टोरंटो में निधन हो गया है. न्‍यूज एजेंसी भाषा ने उनके बेटे सरफराज खान के हवाले से यह खबर दी है. पिछले कुछ समय से 81 वर्षीय अभिनेता की तबियत खराब थी. उन्‍हें 16-17 हफ्ते पहले ही में कनाडा के एक अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था, जहां वह BiPAP वेंटिलेटर पर थे. कादर (81) के परिवार में उनकी पत्नी हजरा, बेटा सरफराज, बहू और पोते-पोती हैं. एक करीबी रिश्तेदार अमहद खान ने बताया कि तड़के करीब चार बजे उनका निधन हो गया. उनकी अंत्येष्टि आज टोरंटो के कब्रिस्तान में की जाएगी.

काबुल में हुआ था जन्‍म
कादर खान का जन्‍म साल 1937 में अफगानिस्तान के काबुल में हुआ था. उन्‍होंने बॉम्‍बे यूनिवर्सिटी से संबद्ध इस्‍माइल यूसुफ कॉलेज से स्‍नातक की. 1970 के दशक में फिल्‍म इंडस्‍ट्री में कदम रखने से पहले फिल्म उद्योग में प्रवेश करने से पहले, उन्होंने एम. एच साबू सिद्दीक कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, मुंबई में सिविल इंजीनियरिंग के प्रोफेसर के रूप में छात्रों को पढ़ाया भी.

300 से ज्यादा फिल्मों में काम किया
उन्‍होंने करीब 300 से ज्यादा फिल्मों में काम किया. उन्होंने फिल्मों के लिए लेखन से लेकर अभिनय तक अलग-अलग तरह के काम किए. उन्‍होंने करियर अलग-अलग दमदार किरदार निभाए, जिनकी वजह से उनके अभिनय का लोहा माना जाता रहा. चाहे नेगेटिव हो या फि‍र हास्‍य दर्शक उन्‍हें हर किरदार में पसंद करते थे. हालांकि पिछले कुछ समय से अस्‍वस्‍थ होने के चलते उन्‍होंने फिल्‍मी पर्दे से दूरी बना ली थी.

कादर खान ने 250 से ज्यादा फिल्मों में डायलॉग लिखे
कादर खान ने अपने फि‍ल्‍मी करियर में 250 से ज्यादा फिल्मों में डायलॉग लिखे. उनकी डेब्‍यू साल 1973 में आई फिल्म दाग थी. इस फि‍ल्‍म में उनके अपोजित राजेश खन्ना थे. एक खास बात यह है कि उस वक्‍त (1974) की सुपरहिट फिल्म रोटी के डायलॉग लिखने के लिए राजेश खन्ना और मनमोहन देसाई ने उन्हें 1.21 लाख रुपए की फीस दी थी. यह उस वक्‍त की बेहद ज्‍यादा फीस मानी जाती थी.

दिलीप कुमार एक्टिंग देखते ही हो गए थे इंप्रेस
बताया जाता है कादर खान जब अपने कॉलेज के वार्षिक दिवस कार्यक्रम में एक नाटक में परफॉर्म कर रहे थे, तब अभिनेता दिलीप कुमार की नजर उन पर पड़ी और वह उनकी एक्टिंग से वह इतने इंप्रेस हो गए कि उन्‍होंने कादर खान को अपनी अगली फिल्म के लिए साइन कर लिया.