Zee Rozgar Samachar

Johnson & Johnson की कोरोना Vaccine को UK में मिलेगी हरी झंडी, जानें एक डोज है कितनी असरदार

जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson & Johnsons) की सिंगल डोज कोरोना वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) को UK में अगले महीने तक हरी झंडी मिल सकती है. ये वैक्सीन (Vaccine) काफी असरदार है. इसका एक डोज दूसरे वैक्सीन के मुकालबे ज्यादा असरदार है.

Johnson & Johnson की कोरोना Vaccine को UK में मिलेगी हरी झंडी, जानें एक डोज है कितनी असरदार
जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोना वैक्सीन

नई दिल्ली: जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson & Johnsons) की सिंगल डोज कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) को अगले महीने ब्रिटेन में मंजूरी दी जा सकती है. दावा है कि उसकी मदद से ब्रिटेन के टीकाकरण अभियान को काफी बढ़ावा मिलेगा. ब्लूमबर्ग इंटेलिजेंस के लिए फार्मास्युटिकल उद्योग को शामिल करने वाले ब्लूमबर्ग ओपिनियन के योगदानकर्ता सैम फाजली ने जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन को लेकर काफी कुछ बताया है.

इसका सिंगल डोज दूसरी वैक्सीन के दो डोज के बराबर

सैम फाजली ने बताया कि एक खुराक (Single Dose) वाली इस वैक्सीन के पहले और दूसरे चरण में हुए परीक्षण के नतीजों ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया दिखाई है. नतीजों का विश्लेषण मेड-आरएक्सआईवी वेबसाइट पर जारी किया गया है. परीक्षण परिणामों के आधार पर कोई गंभीर दुष्प्रभाव नहीं थे. पहली डोज के बाद एंटीबॉडी की प्रतिक्रिया लगातार मजबूत बनी रही और 71 दिन तक सुधरी रही. जबकि 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में इसका प्रभाव बहुत कम था. जॉनसन एंड जॉनसन का टिका  Pfizer Inc की दो खुराक के बराबर है. 

यह भी पढ़ेंBird Flu Symptoms, Causes And Prevention: देश में वायरस का डबल अटैक, जानिए Bird Flu के लक्षण, सावधानियां और बचाव के तरीके

कब तक मिलेगी मंजूरी 

इम्युनोलॉजिकल डेटा अब तक सही देखने को मिल रहा है. वैक्सीन की प्रभावकारिता का पता लगाने के लिए एक बड़े चरण के परीक्षण की जरूरत है. जॉनसन एंड जॉनसन परीक्षण के बारे में एक अंतर यह है कि इसका मुख्य लक्ष्य यह निर्धारित करना है कि टीका गंभीर से बीमारी के जोखिम को कितनी अच्छी तरह कम करता है. जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज कोविड-19 वैक्सीन तीसरे चरण की परीक्षण सीधे इस सवाल का जवाब मिल सकता है कि कितनी जल्दी हमारे लिए सही रहेगा. 

यह वैक्सीन रोलआउट में कैसे कारक होगा?

जे एंड जे टिके के तीसरे चरण परीक्षण रिपोर्ट के प्रभावी होने पर ये बहुत खुशी की बात होगी. क्योंकि हम इसकी उम्मीद करते  हैं.यह एक गेम चेंजर हो सकता है. यह एक सिंगल-शॉट वैक्सीन होगी, जिसे Pfizer-BioNTech और Moderna के विपरीत रेफ्रिजरेटर के तापमान पर संग्रहीत और परिवहन किया जा सकता है. जिसके लिए ठंडी जगह की जरूरत होती है. J & J को वैक्सीन को शुरुआत में ही 900 मिलियन खुराक के ऑडर मिल गए है. न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार, अप्रैल या मई तक इसकी बड़ी मात्रा में उत्पादन होने की संभावना है. हालांकि, इसकी खूबियां इसे बेहतरीन वैक्सीन्स में शुमार करती हैं, इसके बावजूद हमें इस महामारी को हराने के लिए अन्य शॉट्स की भी जरूरत होगी.

यह भी पढ़ें-Bird Flu: अगर आप माइक्रोवेव का करते हैं इस्‍तेमाल तो ये खबर है आपके काम की

सिंगल डोज कोविड-19 वैक्सीन काफी है?

इसका संरक्षन कितने लंबे समय तक रहता है फिलहाल इसका पता नहीं चलेगा. लेकिन  71-दिन की एंटीबॉडी प्रतिक्रिया आशाजनक है. इसके लिए 1 खुराक काफी है. यह सवाल भी है कि लंबे समय के लिए दूसरी खुराक की जरूरत पड़ सकती है. पहले प्रकाशित आंकड़ों में, युवा वयस्कों में प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ावा देने के 57 दिनों के बाद दूसरी खुराक दी जा सकती है. इसलिए यह संभव है कि एक दूसरे शॉट को अंततः लंबे समय तक चलने वाले संरक्षण की जरूरत होगी.

सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

VIDEO-

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.