close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

DCW ने 12 साल की लड़की को घर से कराया मुक्त, मालिक करता था मारपीट

डीसीडब्ल्यू ने कहा कि उसके अधिकारियों और दिल्ली पुलिस के अधिकारियों का एक संयुक्त दल जब वहां पहुंचा तब उसे घर पर ताला लगा मिला जबकि लड़की घर के अंदर थी.

DCW ने 12 साल की लड़की को घर से कराया मुक्त, मालिक करता था मारपीट
.(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) ने पश्चिम दिल्ली के एक बंगले से 12 साल की एक लड़की को मुक्त कराया है जिसे उसके मालिक ने कथित रूप से घरेलू सहायिका की नौकरी पर रखा और वेतन नहीं देने के साथ-साथ मारपीट भी करता था. डीसीडब्ल्यू ने गुरुवार को यह जानकारी दी. आयोग को हेल्पलाइन नंबर 181 से शिकायत मिली थी कि विकासपुरी में एक परिवहन कारोबारी के बंगले में एक लड़की को घरेलू सहायिका की नौकरी पर रखा गया है.  इसके बाद आयोग ने मंगलवार को उसे मुक्त कराने के लिए काम शुरू किया.

डीसीडब्ल्यू ने कहा कि उसके अधिकारियों और दिल्ली पुलिस के अधिकारियों का एक संयुक्त दल जब वहां पहुंचा तब उसे घर पर ताला लगा मिला जबकि लड़की घर के अंदर थी.  घर के मालिक भी वहां नहीं थे. गार्ड ने इस बात की पुष्टि की कि इस लड़की को घरेलू सहायिका की नौकरी पर पिछले साल रखा गया था. 

आयोग और पुलिस की टीम को देखकर घर के मालिक का एक रिश्तेदार कुछ देर बाद वहां पहुंचा और उसने ताला खोला. आयोग ने कहा, ‘‘वह घर में अकेली थी और बहुत डरी हुई थी.  डीसीडब्ल्यू टीम और पुलिस को देख वह रोने-चिल्लाने लगी और मुक्त कराने की गुजारिश करने लगी.  उसने उसे घर पहुंचाने की दरख्वास्त की. ’’

लड़की ने बताया कि वह झारखंड के एक दूरस्थ क्षेत्र की निवासी है और उसे कुछ साल पहले दिल्ली लाया गया.  उसने बताया कि उसके साथ दो और लड़कियों को लाया गया था.  आयोग ने कहा कि वह घर की सफाई और खाना बनाने का काम करती थी.  उसका वेतन उस महिला को दिया जाता था जो उसे लेकर आयी थी.

लड़की को मुक्त कराके विकासपुरी थाने ले जाया गया.  उसके बाद उसे मेडिकल परीक्षण के लिए ले जाया गया.  बाद में उसे आश्रय गृह भेजा गया. उसे बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया गया है जिसने पुलिस को उसकी उम्र का सत्यापन करने एवं उसके माता-पिता को ढूढकर दिल्ली लाने का निर्देश दिया.  आयोग ने कहा है कि लड़की की उम्र 12 साल है जबकि पुलिस ने कहा कि वह इसकी पुष्टि में जुटी है.