सीएम पर्रिकर की सेहत पर बीजेपी नेता ने ही उठाए सवाल, बोले- उनके ठीक होने की उम्‍मीद कम

गोवा के मंत्री विजय सरदेसाई ने कहा कि पर्रिकर की सेहत बिगड़ी है लेकिन स्थिर बनी हुई है. 

सीएम पर्रिकर की सेहत पर बीजेपी नेता ने ही उठाए सवाल, बोले- उनके ठीक होने की उम्‍मीद कम
फोटो सौजन्य: ANI

पणजी: गोवा के डिप्टी स्पीकर माइकल लोबो ने शनिवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की हालत पर सवाल उठा दिया. माइकल लोबो ने कहा कि सीएम मनोहर पर्रिकर की तबीयत बिगड़ने के बाद बीजेपी विधायकों की आपात बैठक बुलाई गई थी. उनकी हालत बेहद खराब है. लोबो ने कहा कि पर्रिकर डॉक्टरों की निगरानी मे हैं. उनकी तबीयत में सुधार की गुंजाइश पर कोई कुछ भी नहीं बोल रहा है. उन्होंने कहा कि जब तक पर्रिकर हैं, तब तक गोवा में नेतृत्व नहीं बदलेगा. उन्होंने कहा कि डॉक्टरों को पर्रिकर की हालत में सुधार नहीं दिख रहा है.

जब तक पर्रिकर हैं, वही सीएम रहेंगे- लोबो
माइकल लोबो ने कहा कि सीएम मनोहर पर्रिकर की हालत बेहद खराब है. हम सब प्रार्थना कर रहे हैं कि वह अच्छे हो जाएं लेकिन इसकी उम्मीद कम ही है. लोबो ने कहा कि हमारे सीएम पर्रिकर ही हैं और किसी ने भी उन्हें पद से हटाने की मांग नहीं की है. उन्होंने कहा कि अगर पर्रिकर को कुछ होता है तो, नया सीएम बीजेपी से ही होगा. उन्होंने कहा कि शुक्रवार की रात सीएम पर्रिकर की हालत काफी खराब हो गई थी. इसके बाद ही विधायकों की आपात बैठक बुलाई गई थी.   

पर्रिकर की सेहत स्थिर है- मंत्री विजय सरदेसाई
लोबो ने कहा कि तीन विधानसभाओं में होने वाले उप-चुनाव भी नजदीक आ गए हैं और बैठक में इनके लिए उम्मीदवारों का चयन भी किया जाना था. वहीं, गोवा के मंत्री विजय सरदेसाई ने कहा कि पर्रिकर की सेहत बिगड़ी है लेकिन स्थिर बनी हुई है. सरदेसाई गोवा के पांच विधायकों के साथ पर्रिकर के निजी आवास पर उससे मिलने पहुंचे थे. पर्रिकर से मिलने पहुंचे सभी विधायक राज्य की बीजेपी नीत सरकार के सहयोगी हैं. इनमें गोवा फॉरवार्ड पार्टी के जयेश सलगांवकर और विनोद पाल्येकर और निर्दलीय रोहन खौंते, गोविंद गावडे और प्रसाद गावंकर शामिल थे.

पेंक्रियाज की गंभीर बीमारी से हैं पीड़ित
बता दें कि सीएम मनोहर पर्रिकर पेंक्रियाज से संबंधित गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं. उनको बीती 15 फरवरी को मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती किया गया था. यहां से उन्हें 22 फरवरी को छुट्टी दे दी गई थी. वहीं, 25 फरवरी को शरीर में पानी की कमी और लो ब्लड प्रेशर के कारण पर्रिकर को गोवा मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था. जहां से उन्हें 1 मार्च को छुट्टी दी गई थी. पर्रिकर इलाज के लिए अमेरिका भी जा चुके हैं.