#CBIvsMamata: सुप्रीम कोर्ट ने CBI से मांगे सबूत, कल तक के लिए सुनवाई टली

एएसजी तुषार मेहता ने कहा कि पश्चिम बंगाल के डीजीपी को भी बताया गया था कि राजीव कुमार तुरंत सरंडर करे ताकि सबूत नष्ट न हो सके. 

#CBIvsMamata: सुप्रीम कोर्ट ने CBI से मांगे सबूत, कल तक के लिए सुनवाई टली
फाइल फोटो

नई दिल्लीः पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार के खिलाफ सीबीआई की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट में अब मंगलवार को सुनवाई होगी. सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को सीबीआई की तरफ से एडिश्नल सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि कोलकाता के पुलिस कमिश्ननर राजीव कुमार को 4 बार समन भेजा गया था. सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई ने दो अर्ज़ी दायर की हैं. एक कोर्ट की अवमानना के लिए और दूसरी कोर्ट की तरफ से निर्देश के लिए. एएसजी तुषार मेहता ने कहा, 'पश्चिम बंगाल के डीजीपी को भी बताया गया था कि राजीव कुमार तुरंत सरंडर करे ताकि सबूत नष्ट न हो सके, हमने कानून का पालन किया है.' 

कोर्ट ने कहा कि कल (मंगलवार) डीटेल में सुनेगें. लेकिन इसपर ऐतराज जताते हुए तुषार मेहता ने कोर्ट में कहा, 'पश्चिम बंगाल सरकार सबूत नष्ट करेगी. उसे इसके लिए 24 घंटे का और समय मिल जाएगा.'

इस पर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने कहा कि अगर पश्चिम बंगाल सरकार ऐसा करती है तो उन्हें भारी खामियाजा भुगतना पड़ेगा. सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई से कहा कि पहले आप सबूत तो दीजिए की कोलकाता पुलिस आफिसर कौन से दस्तावेज नष्ट कर रहे हैं. 

शारदा चिटफंड घोटाले में सीबीआई के कोलकाता पुलिस कमिश्‍नर राजीव कुमार से पूछताछ करने की कोशिश के खिलाफ धरने पर बैठीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि वह देश और संविधान बचाने के लिए ‘‘सत्याग्रह’’ जारी रखेंगी. ममता बनर्जी ने रविवार को कहा था, ‘मैं यकीन दिला सकती हूं...मैं मरने के लिए तैयार हूं, लेकिन मैं मोदी सरकार के आगे झुकने के लिए तैयार नहीं हूं. हम आपातकाल लागू नहीं करने देंगे. कृपया भारत को बचाएं, लोकतंत्र बचाएं, संविधान बचाएं.’ ममता बनर्जी को विपक्षी दलों का समर्थन भी मिल रहा है.

दूसरी ओर बीजेपी ने ममता बनर्जी पर पलटवार करते हुए कहा कि ममता ने सीबीआई को सुबूत क्‍यों नहीं दिए. उन्‍होंने सीबीआई को जांच से क्‍यों रोका. बीजेपी का एक उच्‍चस्‍तरीय प्रतिनिधिमंडल ममता बनर्जी के धरने के खिलाफ आज दोपहर 12:30 बजे चुनाव आयोग से मिलेगा. वहीं कोलकाता पुलिस कमिश्‍नर राजीव कुमार भी सोमवार सुबह धरनास्‍थल पर ममता बनर्जी से मुलाकात के बाद वहां से चले गए.

महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) ने भी ममता बनर्जी को समर्थन का ऐलान किया है. मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने कहा 'केंद्र सरकार की तानाशाही के खिलाफ ममता बनर्जी के इस कदम पर हम उनका समर्थन करते हैं. हम अन्‍याय के खिलाफ इस लड़ाई में उनके साथ खड़े हैं.'