close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इस पार्टी ने किया वादा, 'आप हमें वोट दीजिए, हम आपको शराब, सोना, और फ्री में बकरा देंगे'

ज्यादातर वादे ऐसे हैं जिन पर भरोसा कर पाना नामुमकिन सा है. मसलन शराब के दाम आधे किये जाएंगे, हर महिला को सोना फ्री दिया जाएगा, ईद पर हर मुस्लिम परिवार को बकरा फ्री.

इस पार्टी ने किया वादा, 'आप हमें वोट दीजिए, हम आपको शराब, सोना, और फ्री में बकरा देंगे'

नई दिल्ली: चुनाव जीतने के लिये पार्टियां किस हद तक जा सकती है इसकी एक झलक दिल्ली में देखने को मिल रही है. दिल्ली की एक पार्टी के उम्मीदवार चुनाव जीतने के लिये लुभावने और बेतुके वादों के पर्चे बनवा कर बंटवा रहे हैं. इनमें से ज्यादातर वादे ऐसे हैं जिन पर भरोसा कर पाना नामुमकिन सा है. मसलन शराब के दाम आधे किये जाएंगे, हर महिला को सोना फ्री दिया जाएगा, ईद पर हर मुस्लिम परिवार को बकरा फ्री के साथ लड़की के विवाह पर ढाई लाख रुपये, प्राइवेट स्कूल की फीस फ्री, सभी को राशन फ्री. ये वादे दिल्ली में लड़ रही एक पार्टी का है.

दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने पिछली बार चुनाव से पहले बिजली फ्री और पानी हाफ रेट का वादा किया था. लेकिन इस बार दिल्ली में एक पार्टी ने उससे भी चार कदम आगे निकल कर ताबड़तोड़ लुभावने वादों की झड़ी लगा दी है. दिल्ली में चुनाव लड़ रही सांझी विरासत पार्टी के उम्मीदवार अमित शर्मा इसी तरह के तमाम वादों के पर्चे बनवा कर लोगों में बंटवा रहे हैं जिन पर भरोसा करना नामुमकिन सा लगता है.

सांझी विरासत पार्टी के उम्मीदवार अमित शर्मा 
सांझी विरासत पार्टी के उम्मीदवार अमित शर्मा ऐसे तमाम वादें लोगों से कर के चुनाव जीतने का सपना देख रहे हैं. ये वादे किसी को भी मात्र कल्पना लग सकती हैं लेकिन अमित शर्मा के पास इसके लिये अपने ही तर्क हैं. ज़्यादातर लोगों का मानना है कि ये सब सस्ती लोकप्रियता पाने का ज़रिया है और ये तमाम वादे असलियत से कोसो दूर दिखायी पड़ते हैं.

हालांकि इन पार्टी के ये चुनावी वायदे आम लोगों के बीच चर्चा का विषय ज़रूर है, सोशल मीडिया पर भी ये चुनावी मुद्दे काफी शेयर किये जा रहे हैं. हालांकि ये पहली बार नहीं है जब कोई पार्टी चुनावों से पहले 'फ्री' की लॉलीपॉप दिखाकर वोटरो को रिझाने की कोशिश कर रही है. वक्त वक्त पर तमाम राजनीतिक पार्टियां ऐसा करती आयी हैं और उनमें से कई को इससे फायदा भी हुआ है.