close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली पुलिस ने किया ट्रिपल मर्डर केस का खुलासा, महिला और उसका प्रेमी गिरफ्तार

क्राइम ब्रांच की एक टीम गुरुग्राम के उनके घर पहुंची तो पता चला कि दोनों घर की बजाय पास के होटल में रह रहे थे. 

दिल्ली पुलिस ने किया ट्रिपल मर्डर केस का खुलासा, महिला और उसका प्रेमी गिरफ्तार
प्रीति सहरावत और मनोज भट्ट दोनों लिव-इन में रहते थे. कुछ समय पहले दोनों ने रेस्टोरेंट भी खोला था जिसमें उनको काफी नुकसान हुआ था.

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की इंटरस्टेट सेल ने वसंत विहार में 22-23 जून की रात को हुए ट्रिपल मर्डर की गुत्थी सुलझाते हुए एक लड़का और लड़की को गिरफ्तार किया है. क्राइम ब्रांच ने 42 साल की प्रीति सहरावत और 39 साल के मनोज भट्ट को लूट के मकसद से ट्रिपल मर्डर करने के आरोप में गुरुग्राम से गिरफ्तार किया और लूट का सामान भी जब्त किया है. क्राइम ब्रांच को केस सुलझाने में सीसीटीवी की भी मदद मिली थी लेकिन उस सीसीटीवी से कातिलों की पहचान कर पाना मुश्किल हो रहा था. जिसके बाद क्राइम ब्रांच ने जब मृतक की बेटी से भी पूछताछ की तो बेटी ने पुलिस से कहा कि 'कपूरी ताई की बेटी आई थी'. 

इस लाइन को सुनकर क्राइम ब्रांच की जांच की दिशा पूरी तरह बदल गई. मृतका की बेटी ने बताया कि उनकी मां की एक दोस्त थीं जिसको वो कपूरी ताई बोलती थी. उसकी बेटी प्रीति काफी सालों के बाद उनके घर मिलने आई थी. क्राइम ब्रांच की इंटर स्टेट सेल अब कपूरी ताई की बेटी को ढूंढने लग गई. क्राइम ब्रांच ने देखा कि सीसीटीवी में दिख रही महिला कोई ओर नहीं कपूरी ताई की बेटी प्रीति सहरावत है. प्रीति की मोबाइल सीडीआर से पता चला कि वो लगातार मनोज भट्ट के साथ संपर्क में रहती थी और पिछले तीन सालों जे मनोज भट्ट के साथ लिव-इन रिलेशन में रह रही थी.  

क्राइम ब्रांच की एक टीम गुरुग्राम के उनके घर पहुंची तो पता चला कि दोनों घर की बजाय पास के होटल में रह रहे थे. क्राइम ब्रांच की पूछताछ में दोनों टूट गए और वारदात कबूल कर ली. पुलिस ने बताया कि प्रीति सहरावत और मनोज भट्ट दोनों लिव-इन में रहते थे. कुछ समय पहले दोनों ने रेस्टोरेंट भी खोला था जिसमें उनको काफी नुकसान हुआ था. उसी नुकसान की भरपाई और पैसों के लालच में प्रीति 17 जून को बुजुर्ग दंपति के घर गई और पूरी रात वहीं रही. इसी दौरान उसने मेड खुशबू से भी जान-पहचान कर ली. ताकि वारदात वाले दिन प्रीति आसानी से घर मे दाखिल हो सके.

पुलिस ने बताया कि 22-23 जून की रात को प्रीति मनोज भट्ट के साथ बाइक पर आई और पहले प्रीति घर में दाखिल हुई उसके बाद उसने अपना दोस्त कहकर मनोज भट्ट को भी घर मे दाखिल करवा लिया. मनोज ने पहले मेड खुशबू पर तेज धारदार हथियार ने कई वार कर किये औऱ इसके बाद बुजुर्गों की हत्या की.