हरियाणा में पीएम नरेंद्र मोदी कर रहे थे जनसभा, हड़ताली कर्मचारी लिख रहे थे खून से खत

हरियाणा में पिछले 8 दिनों से एनआरएचएम के तहत सेवाएं देने वाले कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं.

हरियाणा में पीएम नरेंद्र मोदी कर रहे थे जनसभा, हड़ताली कर्मचारी लिख रहे थे खून से खत
फाइल फोटो

हिसार: हरियाणा के कुरुक्षेत्र में एक तरफ आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की मौजूदगी में जनता के नाम संबोधन दे रहे थे. वहीं, दूसरी तरफ हिसार में मंगलवार को ठीक उसी वक्त हरियाणा के स्वास्थ्य विभाग में सेवाएं देने वाले एनआरएचएम कर्मचारी अपने खून से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम मनोहर लाल के नाम पत्र लिख रहे थे. 

दरअसल, हरियाणा में पिछले 8 दिनों से एनआरएचएम के तहत सेवाएं देने वाले कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं. हड़ताल के चलते हरियाणा के तमाम सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हो रही हैं. आपको बता दें कि एनआरएचएम के तहत हरियाणा के सरकारी अस्पतालों में एंबुलेंस, डिलीवरी, टीकाकरण, जन्म मृत्यु रिकॉर्ड ऑनलाइन दर्ज करना, लैब में टेस्ट और स्कूल हेल्थ संबंधित कार्य किए जाते हैं. लेकिन, तमाम कर्मचारी पिछले 8 दिनों से हड़ताल पर बैठे हैं.

हड़ताल के तहत हरियाणा के अलग-अलग सरकारी अस्पतालों में कर्मचारी वर्ग नारेबाजी करके सरकार की नीतियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहा है. एनआरएचएम संगठन के नेता जगत सिंह ने कहा कि वह अपने हक के लिए पिछले 7 दिनों से हड़ताल पर बैठे हैं. उनकी सिर्फ यही मांग है कि उन्हें स्थायी सेवा और रोजगार की सुरक्षा मुहैया करवाई जाए. हमें पिछले 8 महीनों से वेतन नहीं मिला है. इसके साथ ही देशभर में सातवां वेतन आयोग भले ही लागू कर दिया गया हो लेकिन, एनएचआरएम कर्मचारियों को इसका भी लाभ नहीं दिया गया है.

यूनियन से जुड़ी महिला कर्मचारियों ने कहा कि पिछले साल जब एनएचएम कर्मचारियों ने हड़ताल की थी तो उस दौरान विभाग और एनएचआरएम कर्मचारियों के बीच कई मांगों पर सहमति बनी थी. इसके तहत सेवा नियम संशोधन की भी बात हुई थी, लेकिन आज तक उन सहमतियों को लागू नहीं किया गया है. ऐसे में कर्मचारियों ने इस बार फिर से हड़ताल करने का ऐलान किया था. यूनियन नेताओं ने कहा कि अगर सरकार उनकी मांगों को पूरा नहीं करती है तो उनकी यह हड़ताल अनिश्चित कालीन रूप में तब्दील हो सकती है.

 

विरोध प्रदर्शन के तहत कर्मचारियों ने अपने खून से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के नाम पोस्टकार्ड लिखे हैं. कर्मचारियों ने अलग-अलग पोस्टकार्ड लिखकर सीएम और पीएम के नाम पोस्ट कर दिए. इससे पहले सोमवार को कर्मचारियों ने मुंडन करवा कर सरकार की नीतियों का विरोध भी जताया है.