जेएनयू VC अटैक मामला: सीसीटीवी फुटेज की मदद से जांच में जुटी पुलिस

पुलिस अधिकारी ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज और मोबाइल वीडियो से छात्रों की पहचान करने की कोशिश की जा रही है.

जेएनयू VC अटैक मामला: सीसीटीवी फुटेज की मदद से जांच में जुटी पुलिस

नई दिल्ली: जवाहर लाल यूनिवर्सिटी (JNU) के वाइस चांसलर (Vice Chancellor) जगदीश कुमार पर शनिवार शाम विश्वविद्यालय में हुए हमले को लेकर दिल्ली पुलिस के सीनियर ऑफीसर ने बताया की हमें शिकायत मिली है. हम मामले की जांच कर रहे हैं. अधिकारी ने बताया कि शनिवार शाम 5 बजे के आस-पास वीसी जेएनयू में चल रहे एग्ज़ाम को देखने के लिए बिल्डिंग में गए थे जो एडमिन ब्लॉक से 100 मीटर की दूरी पर है. जैसे ही वीसी बाहर निकले तभी 10-15 छात्रों ने उनके साथ धक्का- मुक्की की, उनके कपड़े खिंचने लगे. तभी गार्ड्स वहां आये और वीसी को छात्रों से बचाया. फिर कार तक वीसी प्रो. जगदीश कुमार को ले जाया गया. 

अधिकारी ने कहा कि वीसी की कार को भी नुकसान पहुंचाया गया. इस घटना के बारे में पुलिस को शिकायत मिली है. पुलिस अधिकारी ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज और मोबाइल वीडियो से छात्रों की पहचान करने की कोशिश की जा रही है.

आपको बता दें कि शनिवार शाम को JNU के वाइस चांसलर जगदीश कुमार पर विश्वविद्यालय के कुछ छात्रों ने हमला कर दिया था. वीसी के साथ हाथापाई करने की कोशिश भी की गई. उनकी गाड़ी को भी निशाना बनाया गया. हमला शाम करीब 5 बजे के आसपास हुआ. जेएनयू वीसी जगदीश कुमार ने घटना के बारे में बताते हुए कहा था कि मुझ पर आज हमला किया गया. मुझे आर्ट्स एंड एस्थेटिक्स स्कूल तक जाना था लेकिन वहां 10-15 छात्रों ने मुझे घेर लिया. वे मुझ पर हमला करने के इरादे से आए थे. भाग्यवश, मुझे सिक्योरिटी ने बचा लिया और मैं वहां से निकलने में कामयाब रहा." 

आपको बता दें कि पिछले कुछ समय से जेएनयू चर्चा में बना हुआ है. जेएनयू के छात्र फीस वृद्धि को लेकर विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं. पिछले हफ्ते जेएनयू के सैकड़ों छात्र राष्ट्रपति भवन की तरफ बढ़ रहे थे, लेकिन उन्हें रोक दिया गया. छात्र शुल्क बढ़ोतरी को लेकर जुलूस निकाल रहे थे. पुलिस ने छात्रों पर दो बार लाठी चार्ज किया. पुलिस की छात्रों से हाथापाई भी हुई. ऐसा जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन की अध्यक्ष आइशी घोष को पुलिस जिप्सी की तरफ धक्का देने की वजह से हुआ.

जेएनयू के कुछ छात्रों ने पिछले माह ZEE न्यूज़ की टीम से भी बदसलूकी की थी. ZEE न्यूज़ की टीम से फीस बढ़ोत्तरी पर हो रहे प्रदर्शन को कवर करने गई महिला पत्रकारों के साथ बदसलूकी की गई थी. 

ये भी देखें