close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

प्राकृतिक आपदा से निपटने के इंतजाम देखने को दिल्‍ली में 55 जगह हुई मॉक‍ ड्रिल

इसे मॉनीटर करने खुद दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, चीफ सेक्रेटरी विजय कुमार देव पहुंचे. 

प्राकृतिक आपदा से निपटने के इंतजाम देखने को दिल्‍ली में 55 जगह हुई मॉक‍ ड्रिल
दिल्‍ली में हुई मॉक ड्रिल. फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : आग, भूकंप या ऐसी कोई आपदा जिसमें बड़ी जनहानि की आशंका हो, उससे निपटने के लिए दिल्ली की तमाम एजेंसियां कितनी तैयार है, उसको देखने के लिए आज दिल्ली में 55 जगहों पर मॉक ड्रिल की गई है. इसे मॉनीटर करने खुद दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, चीफ सेक्रेटरी विजय कुमार देव पहुंचे. 

इस मॉक ड्रिल में दिल्ली में मौजूद तमाम सुरक्षा एजेंसी जैसे दिल्ली पुलिस, दिल्ली फायर सर्विस, कैट्स एम्बुलेंस, NDMA, पैरामिलिट्री फोर्सेज और आर्मी समेत दिल्ली के तमाम प्रशासन इस मॉक ड्रिल में शामिल हुए.

इन 55 जगहों में 13 मेट्रो स्टेशन, बड़े हॉस्पिटल, शॉपिंग मॉल, और बड़े स्कूल और कॉलेज शामिल थे. दरअसल आज इस मॉक ड्रिल का मकसद था कि अगर दिल्ली में कोई ऐसे आपदा जिसमे बड़ी संख्या में जनहानि होने की संभावना हो, उस स्थिति में दिल्ली की एजेंसियां किस तरह आपसी तालमेल बैठाएंगी, कितनी जल्दी रेस्पॉन्स करेगी और कितनी जल्दी स्थिति को काबू पाएंगी, ये देखना था.

दिल्ली के विश्‍वविद्यालय मेट्रो स्टेशन में 5.7 रिक्टर स्केल का भूकम्प आने का सीन बनाया गया था जहां बताया गया कि मेट्रो स्टेशन के एक हिस्से का एक लेंटर गिर गया है जिसमें 7 लोगों की मौत और 15 घायल दिखाए गए. इस घटना की पीसीआर कॉल हुई और उसके बाद तमाम सुरक्षा एजेंसियां मौके पर समय पर पहुंचीं और रेस्क्यू कार्य शुरू किए. इसी तरह बाद हिन्दू राव हॉस्पिटल में आग और दीवार गिरने की स्थिति बनाई गई जिसमें 25 लोग घायल और 10 की मौत बताई गई. यहां भी रेस्क्यू का टाइम का रेस्पॉन्स टाइम संतोषजनक था.

इस मौके पर खुद उपराज्यपाल और मुख्यमंत्री ने माना कि दिल्ली में अनाधिकृत कॉलोनी खतरे के निशान पर हैं वहां कोई हादसा होने की स्थिति में बड़ा नुकसान हो सकता है. साथ ही उनका कहना कि हम सुरक्षा एजेंसियों को इस तरह तैयार कर रहे हैं कि किसी भी स्थिति में वो बेहतर कार्य करें. दिल्ली के अलावा हरियाणा और उत्तर प्रदेश के दिल्ली से जिलों में भी ऐसी मौके ड्रिल हुई है.