close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मां के निधन से पहुंचा सदमा, युवक ने खुद को स्कॉर्पियो के साथ जिंदा जलाया

मां के अचानक निधन से गजानन को सदमा पहुंचा था लेकिन वह खुदकुशी कर सकता है, यह परिवारवालों ने सोचा नहीं था.

मां के निधन से पहुंचा सदमा, युवक ने खुद को स्कॉर्पियो के साथ जिंदा जलाया

शशिकांत पाटिल. लातूर: महाराष्ट्र के लातूर में एक शख्स अपनी मां की मौत से ऐसा आहत हुआ कि उसके निधन के तीन दिन बाद स्कॉर्पियो में खुद को जलाकर खुदकुशी कर ली. घटना अहमदपुर तालुका के शिरुर जातबंद गाव की है. युवक का नाम गजानन अण्णाराव कौंडलवाडे है. सोमवार की सुबह उसका शव जली हुई स्कॉर्पियो गाडी में मिला.

पिछले बुधवार को गजानन की मां का देहांत हुआ था. गजानन के परिवारवालों का कहना है कि मां के देहांत के बाद वह हमेशा परेशान रहता था. मां का लगाव ज्यादा था. छोटा भाई होने की वजह से वह मां का चहेता था. मां के अचानक निधन से उसे सदमा पहुंचा था. लेकिन वह खुदकुशी कर सकता है. यह परिवारवालों ने सोचा नहीं था. 

गजानन पेशे से ड्राइवर था. उसकी खुद की स्कॉर्पियो है और वह यात्रियों को लेकर हमेशा बाहर ही रहता था. कल शाम को जब वह घर नहीं लौटा तो घरवालों को लगा कि कोई यात्री मिला होगा, जिसे छोड़ने गजानन गया होगा. लेकिन सुबह तक उसका कोई पता नहीं चला. फोन भी बंद आ रहा था तो घरवाले परेशान हुए और उन्होंने उसकी तलाश शुरू की. गांव के बाहर सुनसान जगह पर उसकी स्कॉर्पियो जली हुई अवस्था में मिली जिसमे गजानन का शव भी था. गजानन की मौत से उसका पूरा परिवार सदमे में है. एक ही हप्ते में दो मौते परीवार ने देखी है. तीन भाई-बहनों में गजानन मझला था. कुछ साल पहले ही उसकी शादी हुई थी. मां के कहने पर ही उसने शादी की थी. मां के निधन के बाद वह ऐसे कदम उठाएगा ऐसे परीवारवालों ने भी नहीं सोचा था. 

डिप्टी एसपी अश्विनी शेलार ने बताया कि गजानन के लापता होने की शिकायत लेकर परिवारवाले पहुंचे ही थे कि उसकी गाड़ी मिलने और उसमें गजानन का शव होने की बात सामने आई. उसने गाड़ी में ही खुद को आग लगा दी थी. जिसकी वजह से पूरी तरह जलकर खाक हो गई. उसने रात को किया होगा. इस खुदकुशी को अंजाम देने के लिए उसने गांव के बाहर की सुनसान जगह शायद पहले ही ढूंढकर रखी होगी. पोस्टमार्टम के बाद शव को परीवार के हवाले कर दिया गया. गजानन के पीछे उसके पिता, भाई, बहिन और पत्नी हैं जिन्हे गहरा मानसिक सदमा पहुंचा है.