close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

‘मिशन शक्ति’ पर प्रधानमंत्री के संबोधन से पहले PMO ने हमें सूचित नहीं किया: चुनाव आयोग

‘मिशन शक्ति’ की जानकारी से देश को देने के लिए बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन की चुनाव आयोग से न तो पूर्व अनुमति ली गयी थी ना ही सूचित किया गया था. 

‘मिशन शक्ति’ पर प्रधानमंत्री के संबोधन से पहले PMO ने हमें सूचित नहीं किया: चुनाव आयोग
उपग्रह रोधी मिसाइल के सफल प्रयोग से जुड़े ‘मिशन शक्ति’ की कामयाबी से देश को अवगत कराने के लिए पीएम मोदी ने गुरुवार को राष्ट्र को संबोधित किया था.

नई दिल्ली: ‘मिशन शक्ति’ की जानकारी से देश को देने के लिए बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन की चुनाव आयोग से न तो पूर्व अनुमति ली गयी थी ना ही सूचित किया गया था. 

चुनाव उपायुक्त संदीप सक्सेना ने लोकसभा चुनाव की तैयारियों के बारे में गुरुवार को आयोजित संवाददाता सम्मेलन में बताया कि प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से आयोग को इस मामले में न तो सूचित किया गया था ना ही अनुमति मांगी गई थी.

उल्लेखनीय है कि उपग्रह रोधी मिसाइल के सफल प्रयोग से जुड़े ‘मिशन शक्ति’ की कामयाबी से देश को अवगत कराने के लिए पीएम मोदी के संबोधन को चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन बताते हुए माकपा नेता सीताराम येचुरी ने इसकी आयोग से शिकायत की थी. 

'यह मामला विभिन्न माध्यमों से आयोग के संज्ञान में आया'
सक्सेना ने कहा,‘संबोधन के बाद यह मामला विभिन्न माध्यमों से आयोग के संज्ञान में आया था. इससे चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन का पता लगाने के लिए गठित समिति की अब तक दो बैठकें हो चुकी हैं. इस मामले में शामिल कानून और आचार संहिता के उल्लंघन के पहलुओं की जांच के लिये दूरदर्शन और आकाशवाणी सहित अन्य संबद्ध पक्षकारों से सभी तथ्य और जानकारियां मांगी गई है.’

यह पूछे जाने पर कि जांच पूरी होने में कितना समय लगेगा, सक्सेना ने कहा,‘हमें उम्मीद है कि जांच जल्द पूरी हो जायेगी, हमारी कोशिश है कि कल (शुक्रवार) तक हम जांच पूरी कर किसी निष्कर्ष पर पहुंच सकेंगें.’

उन्होंने बताया कि दूरदर्शन और आकाशवाणी से संबोधन के प्रसारण से जुड़ी जानकारियां आयोग को भेजी गई हैं. प्रधानमंत्री मोदी द्वारा मिशन शक्ति के बारे में एक जनसभा में फिर से बोले जाने के कारण राजनेताओं को इस बारे में बोलने से रोकने के सवाल पर सक्सेना ने कहा कि इस मामले में आचार संहिता के उल्लंघन की जांच किसी निष्कर्ष पर पहुंचने तक इस बारे में कुछ भी कहना संभव नहीं होगा.