'उरी' ने बढ़ाया पाक‍िस्‍तान का डर, हमले की आशंका में लगातार दौरे कर रहे हैं पाक कमांडर

पाकिस्तानी सेना अफ़गानिस्तान सीमा पर लगातार चल रहे तनाव को लेकर परेशान है और उसके संसाधनों का बड़ा हिस्सा वहां लगा हुआ है. ऐसे में उसे लगता है कि अगर भारत ने सीमा पर कोई कार्रवाई की तो उसके लिए दो मोर्चों पर लड़ना बेहद मुश्किल होगा.

'उरी' ने बढ़ाया पाक‍िस्‍तान का डर, हमले की आशंका में लगातार दौरे कर रहे हैं पाक कमांडर
भारतीय सेना की मुस्‍तैदी के कारण पाक‍िस्‍तानी सेना घुसपैठ कराने में नाकाम रही है. फाइल फोटो

पाकिस्तानी सेना इस समय भारत की तरफ से किसी बड़ी कार्रवाई के डर से घिरी हुई है. पिछले एक महीने में पाकिस्तानी सेना के टॉप कमांडर्स ने सीमा पर अग्रिम चौकियों का लगातार दौरा किया है. जनवरी में ऐसे 20 औऱ फ़रवरी में अब तक 5 ऐसे दौरे हुए हैं, जिनमें लेफ्टिनेंट जनरल या मेजर जनरल रैंक के अफसरों ने सीमा का दौरा किया. मज़ेदार बात ये है कि इस भय को बढ़ाने में फिल्म उरी का बहुत बड़ा हाथ है.

सूत्रों के मुताबिक रावलपिंडी हेडक्वार्टर वाली 10 कोर और गिलगिट हेडक्वार्टर वाले के कमांडरों ने लगातार छंब, गुलटारी, बाघ, मुज़फ्फराबाद, हाजी पीर और कोटली सेक्टरों के फॉरवर्ड इलाक़ों का दौरा किया है. पाकिस्तानी सेना की 23 डिवीज़न, 16 डिवीज़न, 12 डिवीज़न, 7 डिवीज़न और 6 पीओके ब्रिगेड की तैनाती के इलाक़ों में पाकिस्तानी सेना के कमांडरों ने दौरे किए हैं. इन सारे इलाक़ों में पाकिस्‍तानी सेना को हाई अलर्ट पर रखा गया है. ये सारे नियंत्रण रेखा के पार के वे इलाक़े हैं, जहां से पाकिस्तानी सेना कश्मीर में आतंकवादियों की घुसपैठ कराती है या आतंकवादियों के लांच पैड्स हैं. पाकिस्तान सेना की 10 कोर जम्मू-कश्मीर में कार्रवाई के लिए सीधे ज़िम्मेदार होती है.

सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तानी सेना अफ़गानिस्तान सीमा पर लगातार चल रहे तनाव को लेकर परेशान है और उसके संसाधनों का बड़ा हिस्सा वहां लगा हुआ है. ऐसे में उसे लगता है कि अगर भारत ने सीमा पर कोई कार्रवाई की तो उसके लिए दो मोर्चों पर लड़ना बेहद मुश्किल होगा. पाकिस्तानी सेना के अधिकारियों का बड़ा तबका मानता है कि आने वाले दिनों में भारत की तरफ से किसी और सर्जिकल स्ट्राइक की आशंका बहुत ज्यादा है.

हाल ही में रिलीज़ हुई फिल्म उरी ने पाकिस्तानी सैनिक अधिकारियों के साथ-साथ दूसरी एजेंसियों को भी बेचैन कर दिया है. पाकिस्तानियों ने इस फिल्म को डार्क नेट या टोरेंट के ज़रिए देखा है. इससे पाकिस्तान में ये आशंका बढ़ी है कि भारतीय सेना की तैयारी सरहद को पारकर लगातार सर्जिकल स्ट्राइक्स के जरिए उसकी सेना को थका डालने की है. हाल ही में पाकिस्तान के रक्षा मंत्रालय ने अपने अधिकारियों और सैनिकों के सोशल मीडिया के इस्तेमाल पर पाबंदी लगा दी है. सूत्रों का दावा है कि ऐसा करने के पीछे कारण सेना में फैल रही अफ़वाहों और घबराहट पर रोक लगाना है.