ऑपरेशन के तीन महीने बाद महिला को हुआ दर्द, टेस्ट करवाने पर पता चला पेट में थी 'कैंची'

 NIMS के निदेशक डॉक्टर मनोहर ने बताया कि महिला की पिछले साल 2 नवंबर को हार्निया की सर्जरी की गई थी.

ऑपरेशन के तीन महीने बाद महिला को हुआ दर्द, टेस्ट करवाने पर पता चला पेट में थी 'कैंची'
NIMS के निदेशक ने बताया कि टेस्ट में सामने आया है कि उसके पेट में चिकित्सा के दौरान प्रयोग में लाई जाने वाली कैंची मिली है.

हैदराबाद: डॉक्टरी के पेशे को समाजसेवा के तौर पर देखा जाता है. वहीं, डॉक्टरों को धरती पर भगवान का दूसरा रूप माना जाता है. इन सबके बीच हैदराबाद से चौंकाने वाली खबर सामने आई है. दरअसल, हैदराबाद के पंजागुट्टा के एक सरकारी अस्पताल के डॉक्टरों की टीम के खिलाफ शनिवार को शिकायत दर्ज हुई है. एक व्यक्ति की ओर से दायर शिकायत में कहा गया है कि निजाम इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (NIMS) के डॉक्टरों की टीम ने पिछले साल नवंबर में एक सर्जरी के दौरान उनकी पत्नी के पेट में एक कैंची छोड़ दी थी. 

 

 

पंजागुट्टा के एसीपी विजय कुमार ने बताया कि निजाम इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (NIMS) के उन डॉक्टरों की टीम के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है, जिन्होंने सर्जरी की थी. मामले की जांच की जा रही है. वहीं, पीड़िता के पति ने बताया कि सर्जरी के दौरान हुई लापरवाही का पता उन्हें शुक्रवार को चला. उन्होंने बताया कि महिला को अपने पेट में दर्द महसूस हुआ था, जिसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया. जहां जांच के दौरान एक्स-रे में पता चला कि महिला के पेट में कैंची है. पुलिस ने जीवन या व्यक्तिगत सुरक्षा को खतरे में डाल नुकसान पहुंचाने के आरोप में डॉक्टरों की एक टीम के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

 

 

वहीं, NIMS के निदेशक डॉक्टर मनोहर ने बताया कि महिला की पिछले साल 2 नवंबर को हार्निया की सर्जरी की गई थी. आज टेस्ट में सामने आया है कि उसके पेट में चिकित्सा के दौरान प्रयोग में लाई जाने वाली कैंची मिली है. उन्होंने बताया कि मेडिकल टीम ने ऑपरेशन कर कैंची को निकाल दिया है. महिला की हालत स्थिर है. उन्होंने कहा कि मामले की जांच के लिए कमेटी बना दी गई है.