close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कांग्रेस समर्थन मांगे तो बीजेपी को हराने के लिए MP में चुनाव प्रचार करूंगा: हार्दिक पटेल

हार्दिक ने मीडिया से कहा, ‘‘मैं यहां पर पिछड़े वर्ग के कार्यक्रम में आया हूं. लेकिन, यदि कांग्रेस समर्थन मांगेगी तो मैं मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में भी उसके लिए काम करूंगा.’’ 

कांग्रेस समर्थन मांगे तो बीजेपी को हराने के लिए MP में चुनाव प्रचार करूंगा: हार्दिक पटेल
हार्दिक ने नोटबंदी को देश का सबसे बड़ा घोटाला बताया.(फाइल फोटो)

रायसेन/सागर: गुजरात के पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने रविवार को कहा कि कांग्रेस यदि उनसे समर्थन मांगती है तो वह मध्यप्रदेश में इस वर्ष के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी को हराने के लिए उसके लिए चुनाव प्रचार करेंगे. मध्यप्रदेश के रायसेन जिला मुख्यालय से 80 किलोमीटर दूर बेगमगंज में हार्दिक ने मीडिया से कहा, ‘‘मैं यहां पर पिछड़े वर्ग के कार्यक्रम में आया हूं. लेकिन, यदि कांग्रेस समर्थन मांगेगी तो मैं मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में भी उसके लिए काम करूंगा.’’ 

उन्होंने कहा कि गुजरात की युवा त्रिमूर्ति हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवाणी और अल्पेश ठाकोर गुजरात की तरह ही मध्यप्रदेश में भी बीजेपी के खिलाफ एवं कांग्रेस के पक्ष में विधानसभा चुनाव में प्रचार करने के लिए तैयार हैं. हार्दिक से सवाल किया गया था कि क्या वह मध्यप्रदेश में बीजेपी सरकार के खिलाफ अभियान शुरू करने के लिए बार-बार प्रदेश में आ रहे हैं.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस को अब तक मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित कर देना चाहिए था. हार्दिक ने नोटबंदी को देश का सबसे बड़ा घोटाला बताया और बीजेपी पर आरोप लगाया कि वह धनबल और बाहुबल से चुनाव जीतना चाहेगी. उन्होंने कहा कि यद्यपि बीजेपी इसमें सफल नहीं होगी क्योंकि देश की जनता अब उनके इरादों को अच्छी तरह से समझ चुकी है.

ज्योतिरादित्य युवा हैं, इसलिए समर्थन
हार्दिक पटेल ने स्पष्ट किया कि उन्होंने राज्य के विधानसभा चुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया को मुख्यमंत्री चेहरा बनाए जाने की बात उनके युवा होने के नाते की थी, फैसला तो कांग्रेस अध्यक्ष को करना है. सागर जिले के गढ़ाकोटा में रविवार को आयोजित संभागीय किसान सम्मेलन में हिस्सा लेने आए युवा नेता हार्दिक ने संवाददाताओं से कहा, "किसानों को सरकार के रवैए के बारे में समझाना है, वे जागरूक हों और खुद फैसला करें कि किसे सत्ता देनी है. मौजूदा केंद्र और राज्य सरकार किसान विरोधी है."

मध्य प्रदेश की राजनीति को लेकर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा, "हम चाहते हैं कि युवा आगे आएं, जहां तक ज्येातिरादित्य सिंधिया की बात है तो मैंने उनका जिक्र इसलिए किया था, क्योंकि वे युवा हैं. मैंने कहा था कि अगर कोई युवा आगे आता है तो मैं उसका समर्थन करूंगा. बाकी फैसला तो पार्टी के अध्यक्ष को करना है, मैं कोई कांग्रेस का अध्यक्ष थोड़े हूं."

जब उनसे पूछा गया कि सिंधिया तो सामंतशाही के प्रतीक माने जाते हैं, तो हार्दिक ने कहा, "उन्हें उससे बाहर लाने की जिम्मेदारी हमारी और आपकी ही है." अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए हार्दिक ने कहा कि, "युवा के हाथ में सत्ता की कमान आएगी तो देश आगे बढ़ेगा. आज भी हम मंदिर-मस्जिद के नाम पर हम आपस में लड़ रहे हैं, क्या हमारा देश मेड इन इंडिया बनकर आगे नहीं आ सकता?"

ज्जैन में हार्दिक पर फेंकी गई थी स्याही
आपको बता दें कि उज्जैन में एक कार्यक्रम के दौरान कुछ युवकों ने पटेल पर स्याही फेंक दी थी और उनके खिलाफ नारेबाजी की थी. हालांकि, कार्यक्रम में मौजूद लोगों ने स्याही फेंकने वाले युवकों को पकड़कर पुलिस को सौंप दिया था. आरोपी युवक खुद को पाटीदार समाज का बता रहे थे. आरोपियों का कहना था कि हार्दिक ने पाटीदारों के आरक्षण के नाम पर केवल राजनीति की है.