सरहद पर तैनात जवान आसानी से ढूंढ पाएंगे जीवनसाथी, ITBP ने लांच किया मेट्रिमोनियल पोर्टल

ITBP ने अपने कुंवारे जवानों और जीवनसाथी से अलग हो चुके जवानों के लिए योग्य और सही जीवनसाथी ढूंढने में मदद पहुंचाने के लिए एक विशेष वैवाहिक पोर्टल (मेट्रिमोनियल पोर्टल) बनाया है.

सरहद पर तैनात जवान आसानी से ढूंढ पाएंगे जीवनसाथी, ITBP ने लांच किया मेट्रिमोनियल पोर्टल
ITBP ने जवानों के लिए मेट्रिमोनियल पोर्टल लांच किया है.

नई दिल्ली: भारत चीन सीमा पर तैनात भारत तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) ने एक अनूठी पहल की है. घरों से सैकड़ो किलोमीटर दूर तैनात जवानों को अपने मनपसंद जीवनसाथी का चुनाव के लिए अब ज्यादा भटकना नहीं पड़ेगा. ITBP ने अपने कुंवारे जवानों और जीवनसाथी से अलग हो चुके जवानों के लिए योग्य और सही जीवनसाथी ढूंढने में मदद पहुंचाने के लिए एक विशेष वैवाहिक पोर्टल (मेट्रिमोनियल पोर्टल) बनाया है.

सबसे खास बात ये है कि ये पहली बार होगा जब किसी फोर्स ने अपने जवानों की मनपसंद जीवन साथी का चुनाव के लिए इस तरीके का पोर्टल बनाया हो. ITBP के प्रवक्ता विवेक पांडेय के मुताबिक ITBP में फिलहाल विभिन्न रैंकों में करीब 25,000 अविवाहित पुरुष जवान और 1000 महिलाएं हैं.

आईटीबीपी के जवान आमतौर पर कर्मचारी सुदूर क्षेत्रों में तैनात रहते हैं. ऐसे में उनके परिवार की ओर से एक अच्छा जीवनसाथी ढूंढना बेहद मुश्किल होता है और आईटीबीपी में ही यदि कोई जीवनसाथी मिल जाये तो इससे बढ़िया कुछ नहीं हो सकता.

देखा जाए तो ITBP का ये पोर्टल काफी सुरक्षित है और ऐसे में जवानों को हनीट्रैप से बचाने में भी मदद मिलेगीं.पोर्टल पर सही जानकारी मुहैया होने से जवानों को साथी के चुनाव में भी आसानी होगी.

अभी फिलहाल ITBP में करीब 333 जोड़े हैं यानि पति-पत्नी दोनों ही आईटीबीपी में तैनात हैं और ज्यादातर फोर्स में काम करने वाला ही जीवनसाथी का चुनाव करना चाहते हैं. नियमों के मुताबिक ऐसे सभी दंपती को एक ही स्थान पर तैनाती की सुविधा मिलती है जो एक बड़ी राहत की बात है.

आईटीबीपी ने भारत चीन सीमा पर अपनी कठिन ड्यूटी को ध्यान में रखते हुए ये कदम उठाया है, जिससे ITBP के जवान बेहद खुश है. सभी अर्द्धसैनिक बलों को मिला दें तो करीब ढाई लाख ऐसे कुंवारे जवान हैं जो अपने मनपसंद जीवन साथी के इंतजार में हैं.

ये भी देखें-: