close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भोपाल बच्ची हत्याकांड पर कमलनाथ के मंत्री बोले- 'यह सरकार को बदनाम करने की साजिश है'

शर्मा ने कहा, "आरोपी को किराए पर मकान दिया गया था. मकान जिस महिला और एक अन्य ने दिलाया था, वह भाजपा से जुड़े हैं. कहीं यह मामला सरकार को बदनाम करने की कोशिश की साजिश का हिस्सा तो नहीं है, इसकी जांच के लिए पुलिस को कहा गया है."

भोपाल बच्ची हत्याकांड पर कमलनाथ के मंत्री बोले- 'यह सरकार को बदनाम करने की साजिश है'
मध्य प्रदेश के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा (फोटो साभारः twitter@pcsharmaoffcial)

भोपाल: मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के नेहरू नगर के आईएफएम मांडवा बस्ती के पास 9 जून की सुबह 8 साल की नाबालिग बच्ची का शव मिलने के बाद फैली सनसनी के बाद अब नेता-मंत्रियों के ऊलजलूल बयानों ने भी प्रदेश की राजनीति को अलग ही ट्रैक पर पहुंचा दिया है. दरअसल, हाल ही में मध्य प्रदेश के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा का एक अजीबो-गरीब बयान सामने आया है. जिसमें उनका कहना है कि 'राजधानी भोपाल के मांडवा बस्ती में बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या किए जाने के पीछे सरकार को बदनाम करने की साजिश है.'

बच्ची के साथ हुए दुष्कर्म के बाद हत्या पर शक जाहिर करते हुए उन्होंने इसके पीछे किसी राजनीतिक दल के होने की आशंका जाहिर की है. उन्होंने आगे कहा कि ''बच्ची के साथ हुए दुष्कर्म और हत्या के मामले में पुलिस को इसकी जांच के निर्देश दे दिए गए हैं और मामले की सघनता से जांच के लिए कहा गया है.'' शर्मा ने रविवार को संवाददाताओं से कहा, "आरोपी को किराए पर मकान दिया गया था. मकान जिस महिला और एक अन्य ने दिलाया था, वह भाजपा से जुड़े हैं. कहीं यह मामला सरकार को बदनाम करने की कोशिश की साजिश का हिस्सा तो नहीं है, इसकी जांच के लिए पुलिस को कहा गया है."

मासूम से रेप और हत्या के मामले में पुलिस पर गिरी गाज, लापरवाही बरतने के आरोप में 7 सस्पेंड

राज्य सरकार के मंत्री शर्मा का यह बयान तब आया है, जब भाजपा मासूमों पर हो रहे अत्याचारों को लेकर आंदोलन कर रही है. साथ ही सरकार पर कानून व्यवस्था न संभाल पाने का आरोप लगा रही है. बीते हफ्ते कमलानगर थाना क्षेत्र की मंडवा बस्ती में रहने वाले परिवार की आठ साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म कर उसकी हत्या कर दी गई थी. इस मामले के आरोपी विष्णु प्रसाद को खंडवा से गिरफ्तार किया गया था, वह जेल में है. उसके खिलाफ चालान अदालत में पेश किया जा चुका है. 

नाबालिग से रेप और हत्या के मामले में पीड़िता के घर पहुंची पुलिस और बोले- नाश्ता और चाय लेकर आओ

बता दें बच्ची के साथ रेप के बाद हत्या मामले में पुलिस के भी 6 कर्मचारियों को लापरवाही बरतने के आरोप में सस्पेंड किया गया है. जिनमें 1 ASI, 1 हेड कॉन्स्टेबल और 4 सिपाही शामिल हैं. दरअसल, इन सभी पुलिसकर्मियों पर मृतका के परिजनों ने लापरवाही का आरोप लगाया है. मृतक बच्ची के परिजनों ने बच्ची का शव मिलने के बाद बताया था कि जब वह पुलिस के पास बच्ची की गुमशुदगी की शिकायत लेकर पहुंचे तब पुलिस ने उनकी सुनने के बजाय उन्हें वहां से जाने को कह दिया. वहीं रात करीब 12 बजे घर पहुंचने पर पुलिस ने उनसे चाय और नाश्ते की मांग की.